वाराणसी में शुक्रवार को मि‍ले रि‍कॉर्ड 312 कोरोना संक्रमि‍त मरीज, 2 की मौत, पुराने 137 मरीज हुए स्‍वस्‍थ

55 new corona patients found in Varanasi on Monday

वाराणसी। जि‍ले में हर नये दि‍न के साथ कोरोना संक्रमण भी तेजी से अपने पैर पसार रहा है। जनपद में शुक्रवार को 312 कोरोना पॉजिटिव मरीज मि‍ले हैं। ये वाराणसी में 24 घंटे में मि‍ले कोरोना पॉजि‍टि‍व मरीजों की अबतक की सबसे बड़ी संख्‍या है।

इसके अलावा आज 2 मरीजों की इलाज के दैरान मौत भी हुई है। वहीं 18 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से, जबकि‍ 119 मरीज को होम आइसोलेशन से डि‍स्‍चार्ज कि‍या गया है।

वर्तमान में वाराणसी में 1783 एक्टिव केस हैं। वहीं अब तक कुल 2205 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। जि‍ले में अबतक 4065 कोरोना केस सामने आ चुके हैं। इनमें से 77 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

विस्तृत खबर थोड़ी देर में..

एनडीआरएफ ने SMF वाटर एम्बुलेंस की मदद से बचाई राजघाट पुल से गंगा में कूदे व्यक्ति की जान

NDRF saved the life of a man who jumped into the Ganges from Rajghat bridge with the help of SMF Water Ambulance (3)

वाराणसी। गंगा नदी में हर वक़्त आम जान की रक्षा के लिए मुस्तैद एनडीआरएफ ने आज SMF वाटर एम्बुलेंस की सहायता से गंगा में कूदे व्यक्ति की जान बचा ली। व्यक्ति का प्राथमिक उपचार करने के बाद एनडीआरएफ की टीम ने उस एकबीरचौरा मंडलीय अस्पताल में एडमिट किया है, जहाँ उसकी हालत अब खतरे से बाहर है।

इस संबंध में एनडीआरएफ इसंपेक्टर ने बताया कि मंगलवार की दोपहर कस्तूरी लाल (49) निवासी चौक ने राजघाट पुल से गंगा में छलांग लगा दी। नदी में गिरते ही व्यक्ति ने शोर मचाना शुरू कर दिया। शोर सुनकर राजघाट पर तैनात हमारी टीम ने तुरंत उस व्यक्ति के रेस्क्यू के लिए उक्त स्थान पर नाव और वाटर एम्बुलेंस दौड़ाई और वयक्ति को डूबने के पहले ही नदी से निकाल लिया।

एनडीआरएफ इन्स्पेक्टर ने बताया कि युवक बेहोश हो चुका था और उसकी स्थिति बहुत ही गंभीर बनी हुयी थी। उसके बाद तुरंत एसएमएफ़ वाटर एम्बुलेंस में शिफ्ट किया गया। यहाँ मुस्तैद एनडीआरएफ के डॉक्टर्स ने उक्त व्यक्ति की नब्ज़ चेक की तो वो बहुत धीमी चल रही थी और उनके कान से खून बह रहा था। इसपर उन्हें जीवन रक्षक दवाओं के साथ ही साथ आक्सीजन पर रखा गया।

उसके बाद 108 पर काल करके एम्बुलेंस द्वारा व्यक्ति को कबीरचौरा हॉस्पिटल भेजा जहां उनकी हालत अब स्थिर है। घटना की सूचना पर हॉस्पिटल पहुंचे परिजनों ने एनडीआरएफ का आभार जताया है।

कोरोना काल में बनारस के इस अस्पताल में मनाया गया अनूठा रक्षाबंधन, कोविड पेशेंट्स को बांधी गयी राखी

Unique Raksha Bandhan celebrated in this hospital of Kashi during Corona period Rakhi tied to Kovid

वाराणसी। वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से इस वर्ष रक्षाबंधन पर्व पर बहुत सी बहनें अपने भाइयों को राखी बांधने नहीं आ पायीं पर डिजटल राखी से उन्होंने अपना स्नेह अपने भाइयों तक पहुंचाया। कोरोना काल में इस समय शहर के कई अस्पतालों में कोविड के पेशंट भी एडमिट हैं जिन्हे इस रक्षाबंधन अपनी बहन की राखी का इंतज़ार रहा।

ऐसे में शहर के मेरिडियन हॉस्पिटल, लेढ़ूपुर में अस्पताल की तरफ से अनूठे रक्षाबंधन का आयोजन किया गया। यहां एडमिट कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ों को यहां की लेडी डॉक्टर्स और नर्सों ने राखी बाँधी और कोरोना पेशेंट्स की मायूसी को ख़ुशी में तब्दील कर दिया।

हॉस्पिटल में एडमिट कोरोना पेशेंट्स के सामने जब गुलाबी पीपीई किट में लेडी डॉक्टर हाथों में अक्षत की थाली लेकर पहुंची तो उनका ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा। वहां एडमिट मरीज़ों की आँखों में आंसू थे।

मेरिडियन के मेडिकल स्टाफ ने बताया कि सभी मरीज़ इस रक्षाबंधन पर अपनी भाई को मिस कर रहे थे ऐसे में हमने यह कदम उठाया सभी पुरुष मरीज़ों को हॉस्पिटल की लेडी डॉक्टर्स और नर्सों ने राखी बांधी।

जो जीता गया था आतंकियों के दंश से ज़िंदगी की जंग, कोरोना से गया हार

Advocate Pramod Shrivastava dies of corona

वाराणसी। जिला एवं सत्र न्यायलय वाराणसी में जब 23 नवम्बर 2007 को बम ब्लास्ट हुआ तो उस समय कई वरिष्ठ अधिवक्ता घायल हुए थे। उन्ही में से गंभीर रूप से घायल हुए अधिवक्ता प्रमोद श्रीवास्तव भी थे। आतंकियों के इस दंश को झेलकर ज़िंदगी जंग जीतने वाले अधिवक्ता मौजूदा समय में फैली कोरोना महामारी के खिलाफ ज़िंदगी की जंग हार गए हैं। कोविड पॉज़िटिव अधिवक्ता की कोरोना से मौत हो गयी।

इस सूचना के बाद कचहरी परिसर में हर कोई स्तब्ध था कि आतंकियों के दंश से जंग जितने वाला कोरोना से जंग कैसे हार गया। मंगलवार को सेन्ट्रल बार एसोसिएशन के प्रस्ताव के बाद कचहरी मे अधिवक्ता शोकाकुल रहे और न्यायिक कार्य से विरत रहे।

इस सम्बन्ध में वरिष्ठ अधिवक्ता फौजदारी दिलिप सिंह ने बताया कि 23 नवम्बर 2007 को जब दिवानी कचहरी मे भयानक बम ब्लास्ट हुआ तो प्रमोद श्रीवास्तव उस ब्लास्ट मे बुरी तरीके.से घायल हो गये थे। बुरी तरह घायल हुए अधिवक्ता प्रमोद ने उस वक़्त जब शासन के लोग उन्हे पचास हजार रुपया सहायता राशि के तौर पर देने पंहुचे तो तो उन्होने बहुत ही विनम्रता से इंकार कर दिया, कहा मेरी जान बच गयी यही बहुत है आप इस पैसे को किसी और जरूरतमंद को दीजिएगा।

अधिवक्ता दिलीप सिंह ने बताया कि उनकी इस उदारता और हिम्मत के किस्से अधिवक्ताओं में अक्सर हुआ करते थे, पर अफसोस ऐसी सोच रखने वाले व्यक्ति को करोना ने हमसे छिन लिया।

इसके अलावा बनारस बार के पूर्व महामंत्री नित्यानन्द राय व मृतक के भाई सुबोध श्रीवास्तव ने बीएचयू अपस्ताल प्रशासन पर इलाज मे लापरवाही का आरोप लगाते हुये प्रमोद श्रीवास्तव के मौत की जांच करने की मांग के साथ बीएचयू के मेडिकल सुपरिन्टेन्डेन्ट और वीसी के स्थानान्तरण की मांग की है।

मृतक का शव एम्बुलेंस के अभाव में स्ट्रेचर से ले जाने का वीडियो हुआ था वायरल, DM सख्त, भेजी नोटिस

Video of dead body taken from stretcher in absence of ambulance was viral DM strict notice sent

वाराणसी। मंडलीय अस्पताल में एक महिला की मौत के बाद जब घर ले जाने के लिए परिजनों ने पहले एंबुलेंस को फोन किया, लेकिन जब एंबुलेंस नहीं मिली तो मजबूरी में स्ट्रेचर पर ही महिला को लेकर घर के लिए निकल पड़े। सड़क पर स्ट्रेचर से महिला के शव को लेकर जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर बीते दिनों वायरल हुआ था। इस वीडियो के वायरल होने पर जिलाधिकारी ने सख्ती दिखाई है। उन्होंने इस वजह से इससे वाराणसी जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग की छवि धूमिल होना माना है और रविवार की शाम मण्डलीय अपर निदेशक/प्रमुख अधीक्षक, श्री शिव प्रसाद गुप्त मण्डलीय चिकित्सालय डॉ प्रसन्न कुमार को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए इस संबंध में जवाब तलब किया है।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने चिकित्सकीय कार्य में शिथिलता एवं लापरवाही पर जारी कारण बताओ नोटिस में जिलाधिकारी ने पूछा है कि क्यों न उनके विरूद्ध कार्रवाई हेतु संस्तुति उच्चाधिकारियों को कर दी जाये। फिलहाल इस कारण बताओ नोटिस के बाद स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मचा हुआ है।

जिलाधिकारी ने कारण बताओ नोटिस में उल्लेख करते हुए कहा है कि मंडलीय अस्पताल में एक महिला की मौत के बाद जब घर ले जाने के लिए परिजनों ने पहले एंबुलेंस को फोन किया, लेकिन जब एंबुलेंस नहीं मिली तो मजबूरी में स्ट्रेचर पर ही महिला को लेकर घर के लिए निकल पड़े। सड़क पर स्ट्रेचर से महिला के शव को लेकर जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ तथा इससे वाराणसी जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग की छवि धूमिल हुई।

जबकि कोरोना महामारी के संकट के दौरान मरीजों का बेहतर ख्याल रखे जाने व इन्हें समय से उपचार, एंबुलेंस आदि उपलब्ध कराये जाने हेतु शासन द्वारा समुचित निर्देश समय-समय पर निर्गत किए गए हैं। इसके उपरान्त भी उक्त घटना श्री शिव प्रसाद गुप्त मंडलीय चिकित्सालय के चिकित्सकों/स्टाफ की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह लगाता है व आपके पर्यवेक्षण में लापरवाही एवं शिथिलता को प्रदर्शित करता है।

जिलाधिकारी ने आगे लिखा है कि इससे यह साबित होता है कि आप द्वारा शासकीय कार्यों में लापरवाही व उदासीनता बरती जा रही है एवं अपने कर्तव्यों का निवर्हन समुचित रूप से नहीं किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने मण्डलीय अपर निदेशक/प्रमुख अधीक्षक, श्री शिव प्रसाद गुप्त मण्डलीय चिकित्सालय डॉ प्रसन्न कुमार को कारण बताओ नोटिस जारी कर 3 अगस्त को उनसे अपना स्पष्टीकरण उपलब्ध कराने का निर्देश देते हुए पूछा है कि क्यों न उनके विरूद्ध कार्रवाई हेतु उच्चाधिकारियों को संस्तुति कर दी जाये।

वाराणसी में संचालित ट्रस्टों के बंद पड़े अस्पतालों को बनाया जाएगा नान कोविड हॉस्पिटल : मंत्री नीलकंठ तिवारी

वाराणसी। वैश्विक महामारी कोरोना धीरे-धीरे वाराणसी जनपद में वृहद् रूप ले रही है। जनपद में अभी तक 3148 कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ मिल चुके हैं और इस समय 1838 एक्टिव मरीज़ शहर के विभिन्न हॉस्पिटलों में आइसोलेट हैं। ऐसे में अस्पतालों में बेड की कमी कभी भी आ सकती है। इस बात को ध्यान में रखते हुए वाराणसी के विभिन्न ट्रस्टों के द्वारा संचालित जनपद के लगभग एक दर्जन से अधिक बंद पड़े अस्पतालों को नान कोविड के अस्पताल रूप में संचालित किये जाने का सुझाव मंत्री नीलकंठ तिवारी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजा था।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पर्यटन मंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी के सुझाव पर सहमति व्यक्त करते हुए ट्रस्टों के बंद पड़े अस्पतालों को आर्थिक मदद उपलब्ध कराकर नान कोविड अस्पताल के रूप में शुरू कराए जाने के बाबत प्रस्ताव उपलब्ध कराने का निर्देश दे दिया है। इस सम्बन्ध में मंत्री नीलकंठ तिवारी ने बताया कि कोविड वैश्विक महामारी के दौरान अन्य रोगों से पीड़ित मरीजों को ट्रस्टों के द्वारा संचालित इन अस्पतालों के शुरू हो जाने से निश्चित रूप से बेहतर इलाज मिल सकेगा।

मंत्री डॉक्टर नीलकंठ बताया कि वाराणसी जनपद में मारवाड़ी, सेवा सदन, बिड़ला, आनंदमयी, मेहता एवं रामकृष्ण मिशन सहित लगभग एक दर्जन से अधिक चिकित्सालय विभिन्न ट्रस्टों द्वारा संचालित किए जाते हैं। वर्तमान में रामकृष्ण मिशन एवं आनंदमयी चिकित्सालय के अलावा विभिन्न ट्रस्टों द्वारा संचालित अन्य चिकित्सालय बंद पड़े, जबकि इन चिकित्सालय के पास चिकित्सकीय इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध है। यदि इन चिकित्सालय को नान कोविड के रूप में शुरू करा दिया जाए तो अन्य रोगों से पीड़ित मरीजों को चिकित्सकीय लाभ प्राप्त करने में निश्चित रूप से मदद मिलेगी और वर्तमान दौर में यह व्यवस्था मील का पत्थर साबित होगा।

उन्होंने जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा से फोन पर इन अस्पतालों की सूची तैयार कर इन्हें तत्काल संचालित किए जाने के संबंध में इनके ट्रस्टियों एवं प्रबंधकों से वार्ता करने को कहा है। पर्यटन मंत्री डॉक्टर नीलकंठ तिवारी ने बताया कि वे स्वयं भी शीघ्र ही इन अस्पतालों के ट्रस्टियों एवं प्रबंधकों के साथ अस्पतालों का संचालन शुरू करने के संबंध में बैठक करेगें। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि इन अस्पतालों के संचालन में आ रही परेशानियों का समाधान कराते हुए शीघ्र ही इनका संचालन सुनिश्चित कराया जाएगा। ताकि आवश्यकतानुसार लोगों को सुगमता के साथ चिकित्सकीय सुविधा प्राप्त हो।

होम आइसोलेशन एप पर करें रजिस्ट्रेशन वरना होना होगा कोविड हॉस्पिटल में एडमिट, आज अंतिम मौका

वाराणसी। होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों के लिए शासन द्वारा प्रदत्त आइसोलेशन एप पर रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य है, पर अभी भी बहुत सारे लोगों ने इस एप पर अपना रजिस्ट्रेशन नहीं किया है और वो होम आइसोलेशन में हैं। ऐसे में जिलाधिकारी ने सख्ती दिखाते हुए सोमवार तक सभी होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों से हर हाल में इस एप को डाऊनलोड कर उसमे रजिस्ट्रेशन करने की अपील की है।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि होम आइसोलेशन करने वाले कोविड के मरीजों का एप पर रजिस्ट्रेशन करने का सोमवार को आखिरी दिन है। अपना रजिस्ट्रेशन न करने वाले लोगों का होम आइसोलेशन निरस्त कर कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा। उन्होंने होम आइसोलेशन करने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से होम आइसोलेशन ऐप पर सोमवार को सायं तक अपना रजिस्ट्रेशन एवं सूचनाएं फील करने की अपील की है।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि होम आइसोलेशन करने वाले कोविड के मरीजों का होम आइसोलेशन एप पर रजिस्ट्रेशन अनिवार्य रूप से होना हैं, जो होम आइसोलेशन करता है उसे रजिस्ट्रेशन कराना होता है, जिस होम आइसोलेशन ऐप पर रजिस्ट्रेशन करना है वह पहले इंटरनेट पर ब्राउज़र में खुलता था और वह लंबी प्रक्रिया थी और परेशानी भी होता था। किंतु अब यह ऐप शुक्रवार से प्ले स्टोर पर आ गया है। ऐसे लोगों को रजिस्ट्रेशन के लिए 2 दिन की मोहलत दी गई थी, आज सोमवार को आखिरी दिन हैं।

उन्होंने बताया कि वाराणसी में अब तक 1000 से अधिक लोगों का होम आइसोलेशन हुआ है, जबकि काफी कम लोगों ने ही इस एप पर रजिस्ट्रेशन किया है। जबकि रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है और यदि कोई भी व्यक्ति इस पर अपना डाटा फील नहीं करता है तो उसका होम आइसोलेशन निरस्त कर दिया जाएगा।

जिलाधिकारी ने होम आइसोलेशन में रह रहे ऐसे लोगों को जिन्होंने अब तक एप पर अपना रजिस्ट्रेशन नहीं किया है को निर्देशित किया है कि सोमवार को शाम तक होम आइसोलेशन के प्ले स्टोर ऐप पर अपना रजिस्ट्रेशन प्रत्येक दशा में करा लें। इसे कंप्यूटर पर सेंट्रलाइज देखा जाएगा और यदि किसी के द्वारा सोमवार को शाम तक रजिस्ट्रेशन नहीं किया जाता है, तो उसका होम आइसोलेशन निरस्त कर उसे कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

कोरोना अपडेट : सोमवार की सुबह वाराणसी में मिले 55 नए कोरोना पॉज़िटिव मरीज़, एक की हुई मौत

55 new corona patients found in Varanasi on Monday

वाराणसी। पूरी दुनिया में कहर बरपाने वाला कोरोना वायरस इस समय भारत में अपने पाँव पसर चुका है। वाराणसी जनपद में भी सोमवार की सुबह जारी हुए मेडिकल बुलिटेन में 55 नए पॉज़िटिव मरीज़ों की पहचान हुई है साथ ही एक कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ की मौत भी हुई है। इसी के साथ जनपद में कोविड 19 पॉज़िटिव का आंकड़ा 3148 पहुँच गया है।

रविवार शाम 7 बजे से लेकर सोमवार सुबह 11 बजे तक बीएचयू लैब से प्राप्त 300 रिपोर्ट्स में से 55 रिपोर्ट पॉज़िटिव आयी है। इसके अलावा बांसफाटक निवासी 42 वर्षीय संक्रमित मरीज़ की मौर सर सुन्दर लाल चिकित्सालय बीएचयू में हुई है। इसी के साथ जनपद में जहां एक्टिव मरीज़ों की संख्या 1838 पहुँच गयी है वहीं अभी तक 63 लोग इस बिमारी से मौत के मुँह में जा चुके हैं।

जनपद में अभी तक 53731 सैम्पल कोरोना जांच के लिए लिए गए हैं। इसमें से 45100 रिपोर्ट प्राप्त हुई है, जिसमें 3148 मरीज़ पॉज़िटिव और 41952 मरीज़ निगेटिव पाए गए हैं। इसके अलावा जनपद में 1247 मरीज़ स्वस्थ होकर अपने घरों को लौट चुके हैं। जनपद में अभी भी 7891 सैम्पल की जांच रिपोर्ट आना बाकी है।

विस्तृत समाचार Live VNS पर शाम 5 बजे के बाद।

शराब के आदी थे कोरोना से मृत कांस्टेबल, इलाज में नहीं बरती गयी कोई लापरवाही, जांच समिति ने सौंपी डीएम को रिपोर्ट

वाराणसी। 29 जुलाई की शाम कोरोना संक्रमित कांस्टेबल मनोज कुमार पांडये की मौत होने के बाद जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया था। कांस्टेबल की मौत में चिकित्सकीय लापरवाही बरतने की शिकायतों का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने एक तीन सदस्य टीम कांस्टेबल की मौत की जांच के लिए घोषित की थी। अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण डॉ बीएन सिंह के नेतृत्व वाली जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दी है।

इस रिपोर्ट के अनुसार मृत कांस्टेबल शराब के आदि थे। इसके अलावा डायबटीज़ और है ब्लडप्रेशर के पुराने मरीज़ थे। उनका पहले दीन दयाल अस्पताल और फिर बीएचयू अस्पताल में भीतर इलाज किया गया, कहीं से कोई भी लापरवाही नहीं बरती गयी है।

जाँच समिति ने मरीज मनोज के पं दीन दयाल राजकीय चिकित्सालय, बीएचयू, पैथालाजी रिपोर्ट, इलाज करने वाले डाक्टरों का बयान, तथा बीएचयू से प्राप्त केस समरी व बीएचटी की जाॅच पडताल की। जांच अधिकारियों की जांच रिपोर्ट के अनुसार मनोज को 23 जुलाई की शाम 8 बजकर 30 मिनट पर पण्डित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय वाराणसी में कोविड पाजिटिव मरीज के रूप में भर्ती कराया गया था। रिपोर्ट के आधार पर समिति ने पाया कि मरीज उच्च रक्तचाप एवं डायबिटीज(शुगर) की बीमारी से ग्रस्त था तथा उनके द्वारा विगत 10 वर्षों से शराब का सेवन किया जा रहा था । मरीज को कोविड की निर्धारित दवायें यथा एजिथ्रोमाइसीन, विटामिन सी, विटामिन बी, पैरासीटामाल, ओमेप्राजोल दी गई थी।

उपचार के दौरान हर शिफ्ट में मरीज की नाडी, तामना, एसपीओटू लगातार किया जाता रहा। 28 जुलाई तक मरीज का एसपीओटू, तापमान, नाडी सामान्य रहा। कोविड के मरीजों में डायबिटीज एवं उच्च रक्तचाप रहने पर मरीज हाईरिस्क कैटेगरी में होता है तथा वह मल्टी आरगन फेल्योर में चले जाते हैं।

27 जुलाई को पैथालाजी रिपोर्ट में मरीज का टीएलसी, रेण्डम ग्लूकोज, सीरम यूरिया,सीरम किएटिव आदि बढे हुए थे जो 29 जुलाई को पैथालाजी रिपोर्ट में और बढे हुए पाये मिले । 27 जुलाई को मरीज पैथालाजी रिपोर्ट के अनुसार टीएलसी बढा हुआ। 29 जुलाई को मरीज की स्थिति बिगडने लगी तथा सांस की गति बढ गयी व सीने में के्रप्टस उत्पन्न हो गये जिसपर मरीज को इन्जेक्टेबल दवाइयां देते हुए तत्काल बीएचयू इलाज हेतु रेफर कर दिया गया ।

बीएचयू से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार दोपहर में मरीज की स्थिति काफी गंभीर हो गयी जिस पर उसे आवश्यक दवा देते हुए वेंटिलेटर पर रख दिया गया। सायं 6.30 बजे मरीज का कार्डियोरेस्पिरैटरी अरेस्ट होने पर सीपीआर प्रारम्भ कर दिया गया परन्तु मरीज की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ एवं शाम 7 बजे मृत्यु हो गयी।

जाॅंच समिति ने निष्कर्ष में दिया है कि मनोज की मृत्यु की जाॅच में पाया गया कि वह डायबिटीज एवं उच्च रक्तचाप के पुराने मरीज थे और शराब के भी आदी थे। तथा दोनो अस्पतालों मे डायबिटीज, उच्च रक्तचाप एवं कोरोना का इलाज किया गया । इसमें किसी भी प्रकार से चिकित्सकीय लापरवाही नहीं पायी गयी।

Corona Update : वाराणसी में रविवार को मिले 144 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज, 3 की मौत

वाराणसी। जिले में शनिवार को सायं से रविवार को पूर्वाहन तक बीएचयू लैब से प्राप्त 219 रिपोर्ट में से 39 तथा सायं तक प्राप्त 782 रिपोर्ट में से 105 सहित कुल प्राप्त 1001 रिपोर्ट में से 144 नये कोरोना संक्रमित मरीज पाये गये। जबकि चौकाघाट निवासी 55 वर्षीय व्यक्ति का अपेक्स हॉस्पिटल, लहरतारा निवासिनी 57 वर्षीय महिला की पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय महमूरगंज निवासिनी 72 वर्षीय महिला की सर सुंदरलाल चिकित्सालय बीएचयू में सहित 3 मरीजों की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई।

वहीं कोरोना का इलाज करा रहे 44 मरीजों का सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें स्वास्थ्य घोषित कर घरों के लिए डिस्चार्ज किया गया। होम आइसोलेशन में रखे 68 मरीज भी स्वस्थ हुए। आज रविवार को कुल 112 कोरोना मरीज स्वस्थ हुए।

इस प्रकार वाराणसी जनपद में कुल कोरोना मरीजों की संख्या 3093 हो गया है। जबकि 1247 मरीज स्वस्थ होकर अपने अपने घरों के लिए डिस्चार्ज हो चुके हैं। वर्तमान में एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1784 है। जबकि 62 लोगों की अब तक मृत्यु हो चुकी है। आज संक्रमित पाए गए मरीज सिकरौल, एसएसपी कार्यालय, मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय आईडीएसपी सेल, लहरतारा, एडीजी जोनल ऑफिस, ककरमत्ता साउथ डीएलडब्ल्यू, वैसनी विहार कॉलोनी डीएलडब्लू, ब्लॉक पहाड़पुर पुलिस लाइन, ज्ञानवापी ब्लॉक पहाड़पुर पुलिस लाइन, मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय, भेलूपुर, बसनी, ठाकुरपुर थाना बड़ागांव पीएचसी पिंडरा, पिंडरा थाना, फूलपुर पीएससी, समोगरा थाना फूलपुर पीएससी पिंडरा, नंदापुर थाना बड़ागांव पीएससी पिंडरा, दिनदासपुर थाना फूलपुर पीएससी पिंडरा, गोलाघाट रामनगर भीटी, महमूरगंज, काजीपुरा यूपीएससी माधोपुरा, खजूरी गोला अर्दली बाजार, बूबना भवन द्वितीय तल नीचीबाग, त्रिलोचन बाजार विशेश्वरगंज, कंचनपुर वैष्णो कॉलोनी ककरमत्ता, द स्कोपी क्लीनिक, शाह भवन दुर्गाकुंड रोड भेलूपुर छित्तूपुर महमूरगंज, गायत्री कॉलोनी पांडेपुर, तिलभांडेश्वर पार्क भेलूपुर, रानीपुर छित्तूपुर, नार्थ ककरमत्ता डीएलडब्लू मंडुवाडीह, संत रघुवर नगर छित्तूपुर दत्ता डायग्नोस्टिक, वैष्णोपुरम कॉलोनी धमरिया करकटपुर लोहता, जीउतपुरा लहरतारा, जयप्रकाश नगर महाकाली मेडिकल के पास माधव मार्केट सिगरा, सनराइज अपार्टमेंट नदेसर चौकाघाट के पास, न्यू कॉलोनी ककरमत्ता डीएलडब्लू, सिद्धार्थ ग्रीन अपार्टमेंट मंडुवाडीह, भुल्लनपुर पीएससी रोहनिया, महावीर ग्रीन अपार्टमेंट महावीर मंदिर के पास टकटकपुर, प्रभु निवास संत रघुवर नगर कॉलोनी सिगरा महमूरगंज, इंदिरा नगर चितईपुर सुंदरपुर, लक्ष्मीकुंड लक्सा, चदूआ छित्तूपुर थाना सिगरा, सरकारी आवास पानी टंकी परिसर तुलसीपुर छित्तूपुर महमूरगंज, कामायनी नगर कॉलोनी पिशाचमोचन, जोहार पट्टी कादीपुर चौबेपुर, ईश्वरगंगी, गढ़वासी टोला थाना चौक, ईश्वरगंगी हनुमान मंदिर के पास, जयप्रकाश नगर सिगरा, जयप्रकाश नगर सिगरा महाकाली मेडिकल के पास, ग्वाल दास साहू लेन गोलघर, पक्की बाजार कचहरी, काजीपुरा कला नई सड़क, राजा दरवाजा थाना चौक, नई पोखरी हबीबपुरा, ओरियाना हॉस्पिटल रविंद्रपुर, जगतगंज, मिसिर पोखरा, सुड़िया बुलानाला, गंगा राम हॉस्पिटल के पास बाईपास डाफी, छित्तूपुर, शुकुलपूरा, सोनारपुरा, टिकरी, रानीपुर, भगवती नगर कॉलोनी सुसुवाही, मुरारी चौक सामनेघाट, भोजूबीर, विवेक नगर नासिरपुर, विवेकानंद कॉलोनी भगवानपुर, भक्त नगर करौंदी सुंदरपुर, रुद्रा टावर सुंदरपुर, भीखमपुर कपसेठी, शिवदासपुर मंडुआडीह, कर्णघंटा बुलानाला, तिलभांडेश्वर पार्क भेलूपुर, लक्ष्मी नगर नदेसर, इंग्लिशिया लाइन, हंकार टोला, बलुआ घाट, लालपुर, शिवपुरवा माधोपुर थाना सिगरा, अमलयल लहरतारा, राजातालाब, घसियारीटोला थाना आदमपुर, सरकारीपूरा सचिबल विद्यालय मंडुआडीह, लल्लापुरा, गांधीनगर कॉलोनी, गिलट बाजार, भेलूपुर पानी टंकी, सूर्य विहार अपार्टमेंट खोजवा, बांस फाटक, नवापुरा हनुमान फाटक, सदर बाजार थाना कैंट, भगवानपुर थाना बड़ागांव, कुवार बाजार बड़ागांव, चौका हरहुआ, काशीविद्यापीठ, शिवदासपुर थाना मंडुआडीह, भगवानपुर विकास खंड काशीविद्यापीठ जयप्रकाश काशी विद्यापीठ के हैं। यह सभी हॉटस्पॉट एवं कंटेनमेंट जोन बनेंगे।