पिंडरा तहसील पहुंचा कोरोना संक्रमण, कर्मचारी संक्रमित, तीन दिन के लिए तहसील बंद

वाराणसी। जिले में कोरोना संक्रमण ने तेजी से अपना पैर पसारना शुरु कर दिया है। हर तरह की सावधानियां बरतने के बाद भी यह संक्रमण तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। कोरोना संक्रमण पिंडरा तहसील तक भी पहुंच चुका है। पिंडरा तहसील में मंगलवार को एक कर्मचारी के कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पूरे तहसील में हड़कंप मच गया।

पिंडरा तहसील में एक कर्मचारी के कोरना पॉजिटिव होने के बाद उपजिलाधिकारी मणिकंदन ए ने तीन दिनों के लिए पूर्ण रूप से तहसील को बंद करने का आदेश दे दिया है।

21 जुलाई से 23 जुलाई तक पिंडरा तहसील को पूर्ण रूप से बंद करने के बाद ही वहां सैनिटाइजेशन का कार्य शुरु कर दिया गया है और पूरे तीन दिनों तक सैनिटाइजेशन का कार्य चलेगा। तीन दिनों बाद पिंडरा तहसील कुछ नियमों और शर्तों के साथ खोला जाएगा।

Corona update : वाराणसी में मंगलवार को मिले 93 कोरोना पॉजिटिव केस, 40 को मिली छुट्टी

corona-positive

वाराणसी। जनपद में मंगलवार को भी कोरोना पॉजिटिव मामलों में इजाफा देखने को मिला है। बीएचयू से आई मेडिकल बुलेटिन के अनुसार आज जनपद में 93 कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं। वहीं 40 लोगों को आज ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। इसी के साथ जिले में एक्टिव केस की संख्या 820 पहुंच गई है।

मंगलवार को 93 केस मिलने के बाद जनपद में अब कोरोना प़ॉजिटिव मरीजों की संख्या 1479 हो गई है। इनमें से 625 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद घर को भेज दिये गए है। वहीं अब तक 34 लोगों की मौत हो चुकी है।

विस्तृत खबर थोड़ी देर में..

मुफ्ती शहर बनारस ने मुस्लिम बंधुओं से की अपील, इस बकरीद साफ सफाई का रखें विशेष ध्यान, घरों में ही दें कुर्बानी

वाराणसी। मुस्लिम बंधुओं का पाक पर्व बकरीद नजदीक ही है, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते यह त्योहार बेहद सादगी से मनाया जाएगा। मुफ्ती शहर बनारस अब्दुल बातिन नोमानी ने भी इस बार मुस्लिम बंधुओं को बकरीद का त्योहार सादगी और साफ सफाई का ध्यान रखते हुए मनाने की अपील की है।

इस संबंध में Live VNS से बातचीत में मुफ्ती शहर बनारस ने लोगों से अपील किया है कि बकरीद का पाक पर्व साफ सफाई का ख्याल रखते हुए मनाये और गोश्त के तुकड़ों को इधर उधर ने फेंके। उन्होंने कहा कुरबानी के बाद खून, हड्डियां और अन्य चीजें नगर निगम की तरफ से जो जगह मुकर्रर की गई हैं वहीं फेंकें।

उन्होंने कहा कि गंदगी को इधर उधर फेकने से न सिर्फ शहर खराब होता है बल्कि हमारी शरियत भी इस बात की इजाजत नहीं देता कि गंदगी फैलायी जाए या रास्ते में ऐसी कोई गंदी चीजें डाल दी जाए जिसकी वजह से राहगीरों को तकलीफ हो। यह मूल्क और इस्लाम दोनों के कानूनों के खिलाफ है। उन्होंने अपील करते हुए कहा है कि त्योहार को मनाते वक्त ऐसा कोई भी कार्य न किया जाए जो मूल्क या इस्लाम के खिलाफ हो।

मुफ्ती शहर बनारस ने मुस्लिम बंधुओं से आग्रह करते हुए कहा है कि वह कुरबानी घर के अंदर ही दें और सार्वजनिक स्थल पर कुरबानी न दें, जिससे सड़कों पर या गलियों में गंदगी न हो।

वाराणसी की ये संस्था तैयार कर रही खादी से M95 मानक के मास्क, बाज़ारों में उपलब्ध

वाराणसी। खादी उद्योग के लिए भारत सरकार नित्य नए प्रयास कर रही है पर अभी भी खादी के सामान युवा पीढ़ी में अपनी पैठ बनाने में नाकाम साबित हो रही है।  ऐसे में वाराणसी की एक संस्था ने कोरोना अकेला में खादी के मास्क बनाने की ठानी और इस समय इस संस्था में लॉकडाउन में घर में मौजूद 30 महिलाएं खादी के M95 मास्क के मानक के अनुरूप बनाने में जुटी हुई हैं। ये मास्क वाराणसी के बाज़ारों में उपलब्ध भी है।

वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए मास्क पहनना सार्वजनिक स्थलों पर अनिवार्य किया गया है।  ऐसे में बाज़ार में बिकने वाले M95 मास्कों की बिक्री बढ़ गयी और एकाएक ऊँचे दामों में बिकने लगे। कुछ ही दिनों में इसकी कमी भी बाज़ारों में देखने को मिली और जब ये दुबारा से मार्किट में आये तो महंगे दामों में। इनकी उपयोगिता को देखते हुए वाराणसी की एक संस्था ने M95 मास्क के मानक के अनुरूप  खादी के कपडों से  बनाना शुरू किया है और अब ये मास्क बाज़ारों में प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत बिक रहे हैं।

इस सम्बन्ध में पांडेयपुर स्थित सेवा आश्रम संस्था के प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि हमारी संस्था के आस पास जो महिलाएं यही और काम करती हैं वो लॉकडाउन में अपने घरों में हैं। इनमे से 60 महिलाएं और जो हमारे प्रवासी भाई बहन आये हैं उनमे से कुछ लोगों को लेकर हम खादी के कपड़ों का मास्क M95 मानक के अनुरूप बच्चों, बूढ़ों जवान और महिलाओं की पसंद को देखते हुए उसी फैशन का बनाया जा रहा है।

प्रवीण ने बताया कि हम ये कार्य आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत कर रहे हैं और हम चाहते हैं कि यह मास्क देश-विदेश हर जगह पहुंचे।  इसकी दर हमने बहुत ही न्यूनतम रखी है।

खादी ग्रामउद्योग के अधिकारी ने बताया कि हमारे मास्क को बहुत ज़्यादा डिज़ाइन करने और सेलेक्शन के बाद बनाना शुरू किया गया है। अब ये मास्क बाज़ारों के साथ साथ ऑनलाइन बिक्री केंद्रों और हमारे आउटलेट्स पर भी मौजूद हैं। इनकी गुणवत्ता M95 मास्क की जैसी ही है। ये मास्क सिर्फ 30 रुपये का है और सुलभ है साथ ही वाशेबल भी है।

मास्क को बना रही प्रतिका मिश्रा ने बताया कि रोज़ाना हम लोग 30 से 40 मास्क एक आदमी बना रहे हैं। इस कार्य से जुड़ कर हम लॉकडाउन में अपने परोवार का भरणपोषण भी कर रहे हैं। वहीं रिंकी पटेल ने बताया कि मास्क बनाना हमें अच्छा लग रहा है और लोगों को संक्रमण से बचा रहा है ये मास्क ये सुनकर और भी अच्छा लग रहा है।

देखें तस्वीरें : 

 

वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं ने बनायी मोदी, ट्रम्प और इंद्रेश राखी, 7 साल से जारी है परम्परा

वाराणसी। वर्ष 2013 में जब नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तक से काशी की मुस्लिम महिलायें मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी के नेतृत्व में मोदी राखी बनाकर भेज रही हैं। अब यह परम्परा में शामिल हो गया। इसी क्रम में इन्द्रेश नगर (लमही) के सुभाष भवन में मुस्लिम महिला फाउण्डेशन एवं विशाल भारत संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुये मुस्लिम महिलाओं ने गीतों के साथ मोदी, ट्रम्प और इन्द्रेश राखी बनाया।

मुस्लिम महिलाओं ने मोदी के ऊपर ढ़ोल की थाप के साथ स्वरचित गीत गाकर राखी बनाना शुरू किया। सितारा, टिक्की, गत्ता, लेस और मोदी की तस्वीर का प्रयोग कर मोदी राखी बनाया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इन्द्रेश कुमार ने कैथल से ऑनलाईन मोदी राखी का उद्घाटन किया।

राखी का त्यौहार वैसे तो भाई-बहनके स्नेह का प्रतीक है, लेकिन रक्षा सूत्र का सम्बन्ध बहनों के साथ-साथ देश की रक्षा से भी है। चीन की धोखेबाजी और विस्तारवादी नीति से नाराज मुस्लिम महिलाओं ने न सिर्फ चीनी राखी के बहिष्कार की घोषणा की बल्कि उसका विकल्प भी दिया।

मुस्लिम महिलाओं ने मोदी के साथ-साथ चीन के मसले पर भारत का खुलकर साथ देने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और चीनी सामानों का बहिष्कार कराकर चीन की आर्थिक सत्ता को घुटने पर लाने वाले सामाजिक नेता इन्द्रेश कुमार के नाम की भी राखी बनायी और भारतीय डाक से उनको भेजा। मोदी राखी बनाकर वितरित भी की जायेगी ताकि बहनें अपने भाई की कलाई पर मोदी राखी बांधकर सम्मान, सुरक्षा, संस्कार, स्वाभिमान और देश की रक्षा का भाव महसूस कर सकें।

इस अवसर पर इन्द्रेश कुमार ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री विश्व समुदाय के नेता हैं, वे अपने प्रभाव का इस्तेमाल छोटे देशों की सुरक्षा के लिये करते हैं। मुस्लिम महिलायें मोदी राखी बनाकर चीन के आर्थिक साम्राज्य को चुनौती दे रही हैं। चीन के किसी भी सामान का इस्तेमाल न करने की शपथ लेकर मुस्लिम महिलाओं ने पूरी दुनियां को यह बता दिया कि अब दुनियां के देश चीन की दादागीरी नहीं बर्दाश्त करेंगे। मुस्लिम महिलाओं का मोदी के प्रति स्नेह भारत की सांस्कृतिक एकता की पहचान है। हिन्दू-मुस्लिम बहनें एक समान रूप से मोदी को अपना भाई मानती हैं। ये बहनें मुझे भी राखी बांधती आ रही हैं। इनके लिये मेरी शुभकामनायें और आशीर्वाद सदा है।

मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी ने कहा कि ‘नरेन्द्र मोदी ने राखी का फर्ज निभाया। वर्ष 2013 में ही मुस्लिम महिला फाउण्डेशन ने इन्द्रेश कुमार के माध्यम से मोदी जी को राखी भेजकर तीन तलाक के खात्मे की मांग की थी। एक भाई और पिता की तरह मुस्लिम बेटियों और बहनों का ख्याल रखा। लाखों मुसलमानों का घर टूटने से बचा लिया और करोड़ों मुस्लिम महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा प्रदान की। नरेन्द्र मोदी का एहसान मुस्लिम महिलायें कभी नहीं भूल सकती हैं। 370 और राम मंदिर का विवाद खत्म कराकर नरेन्द्र मोदी सबके दिलों पर हजारों सालों तक राज करने वाले बादशाह बन गये हैं।

विशाल भारत संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष डॉ राजीव श्रीवास्तव ने कहा कि मुस्लिम महिलायें डोनाल्ड ट्रम्प को राखी भेजकर भारत और अमेरिका के सम्बन्धों को मजबूती प्रदान करेंगी, साथ ही चीन को यह संदेश देने का काम कर रही हैं कि हर मोर्चे पर चीन का बहिष्कार किया जायेगा। हिन्दुस्तान की कोई बहन अपने भाई की कलाई पर खून से सने चीनी राखी को नहीं बांधेंगी। अब हिन्दुस्तान में महापुरूषों की तस्वीर वाली घर की बनी राखी बांधी जायेगी।‘

राखी बनाने में नजमा परवीन, सोनी बानो, अर्चना भारतवंशी, डा मृदुला जायसवाल, नाजमा बानो, नगीना, मुन्नी बेगम, सुनीता श्रीवास्तव ने सहयोग किया।

देखें वीडियो

देखें तस्वीरें : 

पोलियो अभियान की तर्ज पर फ्रंट लाइन वर्कर द्वारा वाराणसी में किया गया घर-घर संपर्क

वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि विशेष सर्विलान्स अभियान, पोलियो अभियान की तर्ज पर विगत 5 जुलाई से 15 जुलाई तक चलाया गया। अभियान में फ्रंट लाइन वर्कर द्वारा घर-घर जाकर संपर्क कर सर्वे का कार्य किया गया और इस दौरान बुखार, खांसी और सांस लेने में दिक्कत वाले मरीजों के साथ ही साथ पहले से इलाज करा रहे लंबी बीमारियों जैसे गुर्दे का रोग, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, कैंसर इत्यादि से ग्रसित मरीजों की पहचान की गयी।

जिलाधिकारी ने सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को निर्देशित करते हुये कहा कि अभियान के दौरान पहचान किए गए सभी मरीजों को तात्कालिक प्रभाव से स्वास्थ्य केन्द्रों और अस्पताल के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई जाएं।

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ वीबी सिंह ने इस सम्बन्ध में बताया कि 5 से 15 जुलाई तक चलाये गए सर्वेक्षण अभियान के तहत शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बुखार, खांसी और सांस लेने में दिक्कत वाले कुल 6,261 मरीज खोजे गए जिसमें बुखार के 2,273, खाँसी के 2,121, और सांस लेने में दिक्कत के 1,876 मरीज चिन्हित किए गए। वहीं लंबी बीमारीयों यथा मधुमेह के 25,840, उच्च रक्तचाप के 14,186, कैंसर रोग के 735, हृदय रोग के 2,714 और गुर्दे का रोग के 450 रोगी खोजे गए। शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के लिए गठित की गई 11,425 टीमों ने सर्वेक्षण अभियान का कार्य किया।

उन्होंने बताया कि 7.20 लाख (7,20,796) घरों का सर्वेक्षण किया गया जिसमें लगभग 37.45 लाख (37,45,591) व्यक्तियों का सर्वे किया गया। अभियान के दौरान 854 ऐसे लक्षणयुक्त व्यक्ति चिन्हित किए गए जो विगत 14 दिनों से किसी कोविड पॉज़िटिव व्यक्ति के संपर्क में आए थे। अभियान के दौरान संपादित की गयी सेनिटाइजेशन गतिविधियों की संख्या 117 और सैनिटाइज़ किए गए आवासीय भवनों/परिसरों/ऑफिस की संख्या 226 रही।

मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि अभियान के तहत 10 दिनों में कुल 50,186 मरीज खोजे गए।

मंगलवार की सुबह वाराणसी में मिले 50 नए कोरोना पॉज़िटिव मरीज़

corona-positive

वाराणसी। कोरोना का संक्रमण वाराणसी जनपद में लगातार पाँव पसार रहा है। मंगलवार की सुबह बीएचयू लैब से प्राप्त 339 जांच रिपोर्ट्स में से 50 मरीज़ कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं। जनपद में कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ों की संख्या बढ़कर 1436 हो गयी है। इस समय जनपद में 814 कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ एक्टिव हैं।

सोमवार की शाम 7 बजे से लेकर मंगलवार सुबह 11 बजे तक बीएचयू लैब से प्राप्त 339 जांच रिपोर्ट में 50 मरीज़ कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं। जनपद में अभी तक 34 मौत कोरोना से हो चुकी है।

जनपद में अभी तक 27070 सैम्पल लिए गए हैं, जिसमे से 23438 जांच रिपोर्ट आ चुकी है। इनमे 22002 रिपोर्र्ट निगेटिव और 1436 मरीज़ पॉज़िटिव पाए गए हैं। जनपद में 588 मरीज़ स्वस्थ होकर पाने घरों को जा चुके हैं।

भौकाल पर भारी पड़ रही एसपी ट्रैफिक की कार्रवाई, अब तक इतनी बुलेट हुईं सीज़

वाराणसी। युवा जोश की पहचान बनती जा रही बुलेट मोटरसाइकिल चलाने वाले युवाओं के लिए इस समय जनपद में मुसीबत खड़ी हो गयी है। हज़ारों रुपये खर्च कर बुलेट को मोडिफाई कराकर उसमे तीव्र आवज़ करने वाले साइलेंसर लगाकर चलने वाले युवाओं का जोश एसपी यातायात की कार्रवाई से ठंडा पड़ गया है।

एसएसपी अमित पाठक के निर्देश के क्रम में जनपद में बुलेट मोटरसाइकिल के साइलेंसर के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के क्रम में 20 जुलाई को पूरे जनपद में 11 बुलेट मोटरसाइकिल में मानक के विरुद्ध साइलेंसर पाए जाने पर सीज़ की करवाई की गयी।

एसपी ट्रैफिक श्रवण कुमार सिंह ने बताया कि एसएसपी अमित पाठक के निर्देश के क्रम में बीते शुक्रवार से बुलेट मोटरसाइकिल में तेज़ आवाज़ और मानक के विरुद्ध साइलेंसर लगाकर चलने वाले लोगों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जा रही है। इसी क्रम में वाराणसी जनपद में 20 जुलाई सोमवार को 68 बुलेट मोटरसाइकिल चेक की गयी, जिसमे मानक के अनुरूप 29 बोलते मोटरसाइकिल पायी गयीं।

एसपी ट्रैफिक ने बताया कि इस चेकिंग में 28 बुलेट मोटरसाइकिलों का मानक के विरुद्ध पाए जाने पर चालान किया गया, जिसमे से 11 को सीज़ भी किया गया। उन्होंने बताया कि जनपद में यह कार्रवाई लगातार चलती रहेगी।