शहीद फ्लाइट इंजीनियर के घर पहुंचे अजय राय, बहनों से बंधवाई राखी, लिया रक्षा संकल्प

Ajay Rai arrives at martyr flight engineer's house, tied Rakhi with sisters, took Defense Resolution (1)

वाराणसी। 2 फरवरी 2019 को जम्मू कश्मीर के बड़गाम में क्रैश हुए एमआई-17 के अंदर मौजूद फ्लाइट इंजिनियर वाराणसी के विशाल पांडेय भी शहीद हो गए थे। दो बहनों के भाई के शहीद होने के बाद पड़े दुसरे रक्षाबंधन के त्यौहार पर सोमवार को कांग्रेस विधायक अजय राय ने शहीद विशाल पांडेय के घर पहुंचकर उनकी बहनों से राखी बंधवाई और उनकी रक्षा का संकल्प लिया। इसके अलावा उन्होंने जीवन भर बहनों की मदद का भरोसा दिया।

हेलीकाप्टर क्रैश में शहीद हुए विशाल पांडेय की सहादत को एक वर्ष से अधिक का समय पूरा हो चुका है। उसके बावजूद उन्हें उनकी बहनें हर तीज त्यौहार पर याद करती हैं। ऐसे में रक्षाबंधन पर्व पर भी घर में सन्नाटा सा पसरा हुआ था, जिस वक़्त कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय राय के साथ कांग्रेस पदाधिकारी और कार्यकर्ता विशाल पांडेय के घर पहुंचे।

यहाँ विशाल पांडेय के पिता वियजय शंकर पांडेय की डबडबाई आँखों ने उनका स्वागत किया तो अजय राया ने उनका हाथ पकड़ लिया। उसके बाद कांग्रेस विधायक अजय राय ने शहीद विशाल पांडेय की दोनों बहनों से राखी बंधवाई और उन्हें आशीर्वाद दिया साथ ही उनकी रक्षा और हर संभव मदद का संकल्प लिया। पूर्व विधायक के अलावा अन्य कार्यकर्ताओं ने भी राखी बंधवाई।

पूर्व विधायक अजय राय ने बताया कि आज हम लोग देश के महान सपूत विशाल पांडेय के परिवार में आये हैं और आज दो बहनों से हम लोगों ने राखी बंधवाई है और इनको ये कभी महसूस न हो कि इनका भाई नहीं है इसलिए आज हम लोगों ने राखी बंधवाई है। इन दोनों बहनों को हम लोग आजीवन यह वादा करते हैं कि रक्षा करेंगे।

शहीद के पिता विजय शंकर पांडेय ने कहा कि मेरा बेटा शहीद हुआ है उसकी कमी पूरा करना मुश्किल है पर आज पूर्व विधायक और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के यहाँ आने से यह एहसास हुआ कि हम अकेले नहीं है और आज भी मेरा विशाल ज़िंदा है। यह कहकर उनकी आंखें डबडबा गयी। वहीं विशाल की बहन वैष्णवी ने बताया कि भैया का सपना था कि मै एयरफोर्स ऑफिसर बनू तो मै उसकी तैयारी में लगी हुई हूँ।

पूर्व सांसद राजेश मिश्रा ने ब्रह्मणों की हत्या पर सरकार को घेरा, शिव मंदिर पर किया हवन

वाराणसी। कोविड-19 और प्रदेश में लगातार हो रही ब्रह्मणों की हत्या को रोकने के लिए पूर्व सांसद डॉ राजेश मिश्रा ने शास्त्री घाट स्थिति शिव मंदिर के बाहर हवन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी देश में विकराल रूप धारण कर रही है। इसकी रोकथाम के लिए और प्रदेश में हो रही ब्रह्मणों की हत्या को रोकने के लिए आज सावन माह में भगवान् शिव की आराधना की है और हवन किया है।

इस संबंध में बोलते हुए पूर्व सांसद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डॉ राजेश मिश्रा ने बताया कि कोरोना महामारी बहुत तेज़ी से देश में फ़ैल रही है। रोज़ हज़ारों लोग इससे ग्रसित हो रहे हैं। आज भारत तीसरा देश है कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में, ऐसे में हमने हवन कर आज इस कोरोना को देश में होने की प्रार्थना की है।

डॉ राजेश मिश्रा ने आएगी बताया कि इसके अलावा पिछले एक महीने में लगातार हुई ब्रह्मणों की हत्या से भी हम सभी परेशान हैं। किसी माफिया की हत्या हो कोई बता नहीं पर 200 से अधिक ब्रहमणों की ह्त्या की गयी है पूरे प्रदेश में और सरकार ये सबी द्वेष वश कर रही है। ऐसे में आज हम सभी ने मृत ब्रहमणों की आत्मा की शांति और सरकार द्वारा ये द्वेष भाव से प्रेरित कृत्य रोकने की प्रार्थना की है।

समाजवादी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ का आरोप पाल समाज पर हो रहा अत्याचार, सरकार नहीं ले रही कोई सुध

वाराणसी। समाजवादी पार्टी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के कार्यकर्तओं ने बुधवार को वरुणापुल स्थित शास्त्री घाट पर महेंद्र पाल पिंटू के अध्यक्षता में कानपुर में हुए बृजेश पाल की हत्या के विरोध में धरना प्रदर्शन किया।

पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ जिलाध्क्ष पिंटू पाल ने प्रदेश सरकार से मृतक के परिवार को 50 लाख रुपये सहायता राशी देने की मांग की है। धरना प्रदर्शन दे रहे कार्यकर्ताओं ने कहा कि यदि इस मामले में आवश्यक कार्रवाई नहीं की गई तो पूरा पाल समाज प्रदेश में ज्यादा दिन तक अत्याचार नहीं सहेगा। वाराणसी में भी पिछले दिनों पाल समाज के एक ड्राइवर की बक्सर में लेजाकर हत्या कर दी गई थी पर सरकार कोई सुध नहीं ले रही है।

पिछला वर्ग प्रकोष्ट के कार्यकर्ताओं ने मांग की है कि सरकार एक हफ्ते इस मामले में न्याय व्यवस्था सुनिश्चित करे। धरना प्रदर्श में मुख्य रुप से जिलाध्यक्ष महिला रेखा पाल, नरेंद्रनाथ पाल, भइयालाल पाल, नीरज पाल, संतोष पाल, सुरेंद्र पाल, अदि लोग उपस्थित रहें।

देखिये वीडियो:

बसपा सांसद श्याम सिंह यादव ने पीएम मोदी और सीएम योगी पर लगाए आरोप, प्रदेश की कानून व्यवस्था पर उठाए सवाल

वाराणसी। बहुजन समाज पार्टी ने आज वाराणसी के सर्किट हाउस में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान पीएम मोदी और उत्तर प्रदेश के सीएम योगी पर निशाना साधते हुए कई आरोप लगाए। बहुजन समाज पार्टी के जौनपुर सांसद श्याम सिंह यादव ने पीएम पर आरोप लगाते हुए कहा के जब पीएम हर रोज डिजिटलाइजेशन की बात करते हैं तो कोरोना काल में राम मंदिर का शिलन्यास करने के लिए डिजिटल प्लैटफार्म का इस्तेमाल क्यों नहीं करते।

यूपी में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए श्याम सिंह यादव ने आरोप लगाते हुए कहा कि जब सत्ता धारी पार्टी विपक्ष में रहते थें तो दूसरे की व्यवस्था को जंगल राज कहते थें पर अब जो हो रहा यूपी में हो रहा है वह असली जंगल राज है। वहीं वाराणसी में चल रहे विकास कार्य पर बात करते हुए उन्होंने पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि 6 साल हो गए हैं पर पीएम के संसदीय क्षेत्र में विकास का कोई कार्य नहीं किया गया आज भी सड़कें और रोड वैसी ही हैं।

वहीं गलवन घाटी पर हुए भारतीय सैनिकों पर हमले को लेकर श्याम सिंह यादव ने कहा कि पीएम कहते हैं कि न कोई आया न कोई गया तो हमारे सैनिक कैसे मारे गए। इसके अलावा कोरोना महामारी पर बात करते हुए सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कोरना के चलते अचानक लॉकडाउन लगा देना केंद्र सरकार का सबसे गलत निर्णय था क्योंकि उसके बाद महीनों तक श्रमिक अपने घर जाने के लिए परेशान रहे और सड़कों पर पैदल ही अपने घर को निकलने लगे।

उन्होंने कहा सरकार को पहले ही अनाउंस कर देना चाहिये था के देश में 10 दिन बाद या 5 दिन बाद लॉकडाउन लगेगा। इससे हर आदमी सुरक्षित और वय्वस्थित ढंग से अपने घर के लिए निकल जाता।

देखें वीडियो 

मुख्यमंत्री का वाराणसी दौरा : चार जिलों के अफसरों संग हुई बैठक, जानें मीटिंग में क्या बोले सीएम

मुख्य बिंदु

  • बीएचयू प्रशासन एवं जिला प्रशासन में समन्वय स्थापित कर कोविड मरीजों को बेहतर सुविधा देने के लिये व्यवस्थाये और पुख्ता की जाय : मुख्यमंत्री
  • बीएचयू सुपर स्पेशियलिटी सेन्टर में कोविड के एल 3 अस्पताल के लिये 300 बेड की व्यवस्था सुनिश्चित करें : योगी आदित्यनाथ
  • कोविड मरीजों को बेहतर से बेहतर चिकित्सा सुविधा मुहैया कराया जाय, इसमें कोई कोताही नही होनी चाहिये : मुख्यमंत्री
  • बीएचयू के सीनियर फैकिलिटी डॉक्टर कोविड अस्पताल में राउंड करे : मुख्यमंत्री
  • कोविड वायरस को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सबसे कमजोर वायरस बताते हुए कहा कि इसका संक्रमण केवल तीव्र है, संक्रमण रोकने के लिये सावधानी बरती जाय।
  • प्रत्येक जिले में कम से कम एक एक सौ सौ बेड का एल 1 व एल 2 लेवल का कोविड अस्पताल हो, जिलाधिकारी व सीएमओ सुनिश्चित कराये।

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के सेंट्रल हाल सभागार में रविवार को अपने एक दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान वाराणसी मण्डल के जनपदों में कोविड वैश्विक महामारी के संक्रमण एवं इससे बचाव के साथ ही कोविड मरीजों के इलाज के लिये किये जा रहे कार्यो की विस्तार से समीक्षा की।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वाराणसी मंडल में कोविड का अच्छा कार्य हुआ है, इसे और अच्छा करना हैं। बीएचयू व जिला प्रशासन के बीच बेहतर समन्वय से कार्य कर पूर्वांचल सहित अन्य प्रदेशों बिहार आदि को भी बेहतर चिकित्सा सुविधा दे सकता हैं।

बीएचयू एल 3 लेवल के बेड में विस्तार व नान कोविड ओपीडी संचालित करें। सीनियर डॉक्टर भी कोविड मरीजों का विजिट करे। आरटीपीसीआर के टेस्ट बढ़ाने पर मुख्यमंत्री ने बल दिया। कहा बीएचयू को राज्य सरकार से जो सहयोग चाहिए, वह मिलेगा। बीएचयू ऐसा कार्य करे कि वह दूसरों के लिये अनुकरणीय हो।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में प्रतिदिन 35000 टेस्ट आरटीपीसीआर से, लगभग 3000 टेस्ट ट्रोनेट से तथा 40000 टेस्ट एंटीजन कीट से हो रहे हैं। उन्होंने संक्रमित व्यक्ति की पहचान कर तत्काल उसे अस्पताल या आइसोलेशन आदि में आइसोलेट कर चिकित्सा सुविधा देने पर जोर दिया। मंडल के सभी जनपदों में एल1 व एल2 अस्पताल विकसित हो। जिनमें ऑक्सीजन व वेंटीलेटर की समुचित व्यवस्था रहे। ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था 48 घंटे बफर में रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अस्पतालों में स्वच्छता पहला मानक हो। अस्पताल में बेडशीट बदलने, समय पर खाना, डॉक्टर का राउंड, शौचालय साफ़, समय से दवाई, ऑक्सीजन चेकअप आदि कार्य हो। मरीज के लिए प्रतिदिन 100 रुपये खाने का तथा डॉक्टरों के क्वारंटाइन में रहने के लिए 500 रुपये प्रतिदिन उनके खाने आदि पर व्यय का प्रावधान है।

मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया कि कोविड अस्पतालो में एक सामूहिक स्थान चयन कर वहां टीवी लगवाएं, ताकि मरीज न्यूज़ आदि देख सकें। इसके साथ ही उन्होंने कोविड अस्पतालों में न्यूज़पेपर भी रखवाये जाने का निर्देश दिया। इससे सकारात्मक उर्जा बढ़ेगी। मरीजों में विश्वास बढ़ेगा और इससे मरीजों को ठीक होने की दर भी बड़ेगी।

मुख्यमंत्री ने कांटेक्ट ट्रेसिंग व डोर टू डोर सर्वे पर विशेष जोर देते हुए इसे सफलता से चलाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि सही सर्विलांस से इंसेफ्लाइट जैसी घातक बीमारी में 90 फ़ीसदी कमी आयी हैं। जहां पूर्वी उत्तर प्रदेश इंसेफेलाइटिस में 1300 से 1500 के बीच मौतें होती थी, वही अब मात्र 120 से 130 मृत्यु होती है। 5 से 15 जुलाई के दौरान डोर टू डोर सर्वे में जिन लोगों को चिन्हित किया गया है उन सभी का तत्काल सेम्प्लीग करा लिया जाए।

उन्होंने कहा कि हर जिले में हजारों की संख्या में एंटीजन किट दी गई है, उनसे जांच किया जाए। सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राइवेट अस्पताल आदि स्थलों पर बूथ बनाकर संदिग्ध व्यक्तियों का व्यापक एंटीजन टेस्ट करें। कोविड के संक्रमण को रोकना है। बनारस के 90 वार्डों में प्रत्येक में दो-दो टीम लगाएं और डोर टू डोर सर्वे कराकर संदिग्ध मिलने वाले लोगों का रैपिड टेस्ट कराएं। इससे जल्द मरीज की पहचान होगी और उसे चिकित्सा व्यवस्था उपलब्ध कराया जा सकेगा। इससे मृत्यु दर में भी कमी आएंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस महामारी में स्वास्थ्य महकमे के लिए अवसर है कि वह मरीजों की बेहतर से बेहतर सेवाकर अपने को साबित करें। लोगों में विश्वास बढ़े की सरकारी अस्पताल में अच्छा कार्य होता है। नान कोविड व कोविड अलग अलग बिल्डिंग में हो। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीएचयू में अन्य रोगों के इलाज हेतु भी ओपीडी चालू किए जाने पर विशेष जोर दिया।

सीएम योगी ने अधिकारियों से कहा कि होम आइसोलेशन की शर्तों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराएं। डेड बॉडी का डिस्पोजल कोविड प्रोटोकॉल के तहत हो। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि किसी भी मरीज को अस्पताल में इलाज प्राप्त करने के दौरान इंतजार न करना पड़े। इस पर विशेष ध्यान रखा जाए और शिकायत मिलने पर जिम्मेदारी तय होगी। प्राइवेट नर्सिंग होम से जो केस ररेफर होकर आते हैं, उसकी केस हिस्ट्री भी साथ भेजी जाए। कंटेनमेंट जोन की एरिया स्थानीय स्तर पर परिस्थिति के अनुसार जिला प्रशासन तय कर सकता है और वहां कॉविड नियमों का कड़ाई से पालन कराए।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य टीम डोर टू डोर, सर्विलांस के दौरान जनता से सीधा संवाद भी करें और उन्हें जागरूक करें। शनिवार और रविवार को पूर्ण लॉकडाउन के दौरान व्यापक स्तर पर स्वच्छता व सैनिटाइजेशन का कार्य अभियान के अवसर पर चलाया जाए। स्वच्छ पेयजल के प्रति निगरानी रखें।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जेलों में संक्रमण नहीं फैली इसके लिए अस्थाई जेल बनाएं। जहां पहले नए कैदी को कुछ समय रखा जाए। फ़ोर्स व पुलिसकर्मियों को संक्रमण से बचाव की कार्यवाही हो। छुट्टी से वापस आने वालों का चेकअप हो। कोविड 19 का उल्लंघन करने वालों के प्रति सख्ती से इंफोर्समेंट करें। दो गज की दूरी मास्क जरूरी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री की गरीब कल्याण योजना में नवंबर तक निशुल्क खाद्यान्न की व्यवस्था है। पात्रों को खाद्यान्न मुहैया हो सके इसके पर्यवेक्षण के लिए लोकल स्तर पर अधिकारियों की तैनाती की जाय। आत्मनिर्भर भारत में प्रवासी व निवासी दोनों को कार्य मिले। मनरेगा में प्रदेश में रिकॉर्ड कार्य हुआ है। 65 लाख मानव दिवस एक एक दिन में सृजित हुए। स्ट्रीट वेंडर के लिए 10 हजार ऋण की योजना से वेंडरों को लाभ दिलाएं।

मुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि कंटेनमेंट जोन में होमगार्ड, पीआरडी जवान, सिविल डिफेंस व एनसीसी के लोगों का उपयोग करें, ताकि सिविल पुलिस अपराध नियंत्रण कार्य में अधिक समय दे सके। पेड हॉस्पिटलों को चेक करें, मनमाना नहीं होने पाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बनारस महत्वपूर्ण कमिश्नरी है, यहां पर सभी की निगाहें रहती हैं। बेहतर से बेहतर व्यवस्था दे। मुख्यमंत्री ने कांट्रेक्ट ट्रेसिंग व डोर टू डोर सर्वे कर संदिग्धों की जांच पर विशेष जोर दिया। यह कोविड कंट्रोल का बड़ा व महत्वपूर्ण तरीका साबित होगा।

बीएचयू व जिला प्रशासन आपसी समन्वय से काम करें। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में 40 लाख प्रवासी आये, जिसमें 23 लाख रेलवे के सहयोग से सभी को अपने घर पहुंचाए गए।

बैठक में वाराणसी, गाजीपुर, जौनपुर एवं चंदौली के जिलाधिकारियों ने पावर प्रजेंटेशन के माध्यम से अपने जिलों में कोविड वैश्विक महामारी के संक्रमण एवं उससे बचाव तथा मरीजों के बेहतर से बेहतर इलाज के बाबत किए गए व्यवस्थाओं एवं कार्यों का प्रस्तुतीकरण किया। बनारस में 892 कोविड हेल्प डेस्क स्थापित है। कोविड 19 का उल्लंघन करने पर 13 जुलाई से 25 जुलाई तक 62 लाख रुपया जुर्माना वसूला गया है। जौनपुर में ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड के केस ज्यादा मिले। जिसका कारण महाराष्ट्र से आए प्रवासी बताया गया। जौनपुर में 675 किस प्रवासी के हैं।

बैठक में उत्तर प्रदेश के के पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर, पर्यटन, संस्कृति एवं धर्मार्थ कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉक्टर नीलकंठ तिवारी, स्टांप एवं न्यायालय पंजीयन शुल्क राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रविंद्र जायसवाल, एडीजी, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, आईजी विजय सिंह मीणा, जिलाधिकारी वाराणसी कौशल राज शर्मा, एसएसपी वाराणसी अमित पाठक सहित जौनपुर, गाजीपुर एवं चंदौली के जिलाधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित अन्य अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

पीएम मोदी के मन की बात सुनने जुटे भाजपाई

रामनगर संवाददाता डॉ राकेश सिंह

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मन की बात सुनने के लिए रविवार को रामनगर में भाजपाई जगह जगह जुटे। उन्होंने मन की बात भी सुनी और कारगिल युद्ध के शहीदों को अपनी श्रद्धांजलि भी अर्पित की।

पूर्व महानगर उपाध्यक्ष प्रशांत सिंह के आवास पर मन की बात सुनने के बाद कारगिल शहीदों के लिए दो मिनट का मौन रखकर प्रार्थना की गईं।

इस दौरान राहुल देव, गौरव गुप्ता, अभिनव मिश्रा, विमलेश सिंह, मंजीत सिंह, अशोक अग्रहरि, अवधेश कुशवाहा, अनिरुद्ध कन्नौजिया आदि उपस्थित थे।

भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष की अगुवाई में भी शहीदों को श्रद्धांजलि देने के बाद मन कि बात सुनी गई। इसमें संजय वाल्मीकि, सीमा पटेल, सरिता मिश्रा, सोनल बघेल सिंह,मंजू , सीमा, अंकिता अर्चना, निक्की आदि थीं।

वहीं भीटी गांव में भी मन की बात सुनने के लिए कार्यक्रम आयोजित किया गया। यहाँ डॉ अनुपम गुप्ता, वीरेंद्र मौर्य, अशोक जायसवाल, राजेन्द्र शंकर सिंह, राजेश सिंह बब्बू, दीपक कन्नौजिया आदि उपस्थित थे।

कारगिल युद्ध में शहीद सैनिकों को रामनगर में दी गयी श्रद्धांजलि

रामनगर संवाददाता डॉ राकेश सिंह

वाराणसी। ग्रामसभा भीटी रामनगर में रविवार को भारतीय जनता पार्टी महानगर कार्यसमिति सदस्य दीपक कनौजिया के आवास पर आज ही के दिन कारगिल युद्ध में शहीद सैनिकों को मौन श्रद्धांजलि देने के पश्चात माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी के मन की बात को सुना गया।

साथ ही विश्व हिंदू महासंघ उत्तर प्रदेश के नवनियुक्त प्रदेश मंत्री मातृशक्ति मंजू देवी जी को कुसुम देवी क्षेत्र पंचायत सदस्य बीडीसी के हाथों बधाई एवं सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में प्रमुख रुप से दीपक कनौजिया, महानगर मंत्री डॉ अनुपम गुप्ता, महानगर कार्यसमिति सदस्य एवं सभासद राजेन्द्र शंकर सिंह पटेल, सभासद अशोक जायसवाल, निवर्तमान मण्डल महामंत्री अनिल गुप्ता, निवर्तमान मण्डल उपाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह मौर्य, राजेश सिंह बब्बू, निवर्तमान मण्डल कोषाध्यक्ष आनंद घोष, मण्डल मंत्री श्रीमती मंजू देवी, अशोक कुमार, मोनू कुमार, राजु कुमार इत्यादि लोग उपस्थित रहे।

कोविड 19 को लेकर मंडलीय समीक्षा करने वाराणसी पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

Chief Minister Yogi Adityanath in Corona era

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने एक दिवसीय दौरे पर रविवार को वाराणसी पहुंचे। यहां बीएचयू हेलीपैड पर अपने निर्धारित समय से 45 मिनट देरी से पहुंचे योगी आदित्यनाथ का स्वागत एडीजी बृज भूषण, कमिश्नर दीपक अग्रवाल और ज़िलाधिकारी कौशल राज शर्मा के साथ जिले के जनप्रतिनिधियों ने किया।

हेलीपैड से उनका काफिला सीधे बीएचयू सभागार के लिए निकल गया। यहां उन्होंने वाराणसी मंडल के चारों जनपद के आला अधिकारियों संग कोविड 19 संक्रमण पर आवश्यक बैठक किया। बैठक में मंडल के सभी जिलों के सीएमओ, डीएम सहित मंत्री अनिल राजभर, मंत्री नीलकंठ तिवारी, मंत्री रविन्द्र जायसवाल के साथ तमाम जनप्रतिनिधि शामिल रहे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके पहले गोरखपुर और बलिया में कोविड अस्पतालों के दौरा कर व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया है।

तकरीबन दो घंटे चली बैठक के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राजधानी लखनऊ के लिये रवाना हो गये हैं।

देखें वीडियो 

 

पुरोहि‍तों का क्रोध देख बैकफुट पर सरकार, मंत्री बोले घाट के पंडि‍तों को नहीं देना होगा कोई टैक्‍स

वाराणसी। नगर नि‍गम द्वारा काशी के घाटों पर धार्मि‍क अनुष्‍ठान आदि‍ करने वाले पंडों और पुरोहि‍तों से टैक्‍स वसूलने की अधि‍सूचना जारी होने के बाद इसका जबरदस्‍त वि‍रोध शुरू हो गया है। घाट के पंडि‍तों, पुरोहि‍तों और धर्माचार्यों ने इस टैक्‍स की तुलना मुगलकालीन जजि‍या कर से कर दी है। इसके बाद प्रदेश सरकार में धर्मार्थ कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ नीलकंठ ति‍वारी ने आधि‍कारि‍क बयान जारी करते हुए कहा है कि‍ इससे गंगा के घाटों पर परंपरागत तरीके से पूजा पाठ, धार्मिक कार्य एवं कर्मकांड कराने वाले पंडा समाज को चिंता करने की कोई बात नहीं है, उनसे कोई भी शुल्क नहीं लिया जाएगा।

उन्‍होंने स्‍पष्‍ट कि‍या है कि‍ गंगा के घाटों पर परंपरागत तरीके से पूजा पाठ, धार्मिक कार्य एवं कर्मकांड कराने वाले पंडा समाज के लोग अपनी इच्छानुसार इच्छुक हो तो रजिस्ट्रेशन कराएं, अन्यथा इसके लिए भी कोई बाध्यता नहीं होगी। मंत्री ने नगर निगम की घोषणा के बाद पूरे मामले का संज्ञान लेते हुए कमिश्नर एवं नगर आयुक्त से बात की है।

उत्तर प्रदेश के पर्यटन, संस्कृति एवं धर्मार्थ कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉक्टर नीलकंठ तिवारी ने कहा है कि गंगा के घाटों पर परंपरागत तरीके से पूजा पाठ, धार्मिक कार्य एवं कर्मकांड कराने वाले पंडा समाज को चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है, उनसे कोई भी शुल्क नहीं लिया जाएगा।

उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि गंगा के घाटों पर परंपरागत तरीके से पूजा पाठ, धार्मिक कार्य एवं कर्मकांड कराने वाले पंडा लोग अपनी इच्छानुसार इच्छुक हो तो रजिस्ट्रेशन कराएं, अन्यथा इसके लिए भी कोई बाध्यता नहीं होगी।

गौरतलब है कि गंगा घाटों पर गंगा आरती के लिए आयोजकों से सालाना तथा गंगा घाटों पर परंपरागत तरीके से पूजा पाठ कराने, धार्मिक कार्य एवं कर्मकांड कराने वाले पंडो से नगर निगम द्वारा शुल्क लिए जाने की घोषणा की गयी थी। जिसे संज्ञान देते हुए उत्तर प्रदेश के पर्यटन, संस्कृति एवं धर्मार्थ कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉक्टर नीलकंठ तिवारी ने कमिश्नर दीपक अग्रवाल एवं नगर आयुक्त गौरांग राठी से फोन पर वार्ता कर इसे अव्यवहारिक बताते हुए इस पर तत्काल रोक लगाए जाने हेतु कहां है।

मंत्री डॉक्टर नीलकंठ तिवारी ने कहां की काशी एक धार्मिक नगरी है, पूरी दुनिया से लोग यहां पर आकर गंगा के घाटों पर पूजन पाठ एवं धार्मिक कार्य के साथ-साथ कर्मकांड यहां के विद्वान ब्राह्मणों के द्वारा कराते हैं। ऐसी स्थिति में पंडो से शुल्क लिया जाना कतई व्यवहारिक नही है।

वाराणसी : सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र में समाजवादियों ने किया “आह्वान पत्र वितरण अभियान” का शुभारंभ

वाराणसी। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर अपनी तैयारियां जोरो शोरों से शुरु कर दी है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के दिशा निर्देश पर गुरुवार को सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र के हरपुर स्थित कन्हैया राजभर के आवास पर तथा जंसा स्थित जितेंद्र यादव के आवास पर समाजवादी पार्टी के पूर्व राज्यमंत्री सुरेंद्र सिंह पटेल और सपा जिलाध्यक्ष सुजीत यादव उर्फ लक्कड़ पहलवान ने संयुक्त रूप से समाजवादी पार्टी का आह्वान पत्र वितरण अभियान का शुभारंभ किया।

इस दौरान पूर्व राज्य मंत्री सुरेंद्र सिंह पटेल ने सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र के सभी सेक्टर अध्यक्ष, बूथ अध्यक्ष के साथ-साथ सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र में घर घर जाकर समाजवादी पार्टी के आह्वान पत्र को बांटने तथा पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के द्वारा किए गए विकास कार्यों के बारे में विस्तार से लोगों को समझाने का अपील किया।

इस अवसर पर मुख्य रूप से पूर्व राज्य मंत्री सुरेंद्र सिंह पटेल, जिलाध्यक्ष सुजीत यादव उर्फ लक्कड़ पहलवान, उपाध्यक्ष राजेश यादव उर्फ नत्थू, पूर्व रोहनिया विधायक महेंद्र सिंह पटेल, जिला महासचिव आनंद मौर्य, जितेंद्र यादव, शीतला यादव पप्पू जिला पंचायत सदस्य, कन्हैयालाल राजभर रामप्रकाश मास्टर संजय यादव, पखंडी राम बिंद, महासचिव सुदामा यादव, सेक्टर प्रभारी राजकुमार पटेल, बलिराम राजभर, करीमुल्ला, हरिशंकर पटेल, सीताराम यादव, बबलू मोदनवाल इत्यादि लोग उपस्थित रहें।