Corona update : बुधवार की सुबह वाराणसी में मिले 51 नए कोरोना पॉज़िटिव मरीज़, दो की मौत

corona-positive

वाराणसी। वैश्विक महामारी कोरोना का संक्रमण वाराणसी जनपद में लगातार पाँव पसार रहा है। बुधवार की सुबह बीएचयू लैब से प्राप्त 353 जांच रिपोर्ट्स में से 51 मरीज़ कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं। जनपद में कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ों की संख्या बढ़कर 1530 हो गयी है। इस समय जनपद में 869 कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ एक्टिव हैं।

मंगलवार की शाम 7 बजे से लेकर बुधवार सुबह 11 बजे तक बीएचयू लैब से प्राप्त 51 जांच रिपोर्ट में मरीज़ कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं। बुधवार को आई रिपोर्ट में दो कोरोना पॉज़िटिव मरीजों की मौत भी हुई है । उसमे एक 46 वर्षीय पुरुष जो कि पांडेयपुर के रहने वाले हैं और एक 49 वर्षीय पुरुष जो कि कमच्छा निवासी है दोनों की मौत हार्ट अटैक से हुई है। दो मौतों के साथ कोरोना से वाराणसी में मौत का आंकड़ा 36 पहुंच गया है ।

जनपद में अभी तक 28552 सैम्पल लिए गए हैं, जिसमे से 24527 जांच रिपोर्ट आ चुकी है। इनमे 22997 रिपोर्ट्स निगेटिव और 1530 मरीज़ पॉज़िटिव पाए गए हैं। जनपद में 625 मरीज़ स्वस्थ होकर अपने घरों को जा चुके हैं।

विश्वनाथ मंदिर कार्यालय के दो कर्मचारी कोरोना पॉज़िटिव, मंदिर कार्यालय बंद

वाराणसी। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर कार्यालय में कार्यरत लिपिक और गार्ड के संक्रमित होने के बाद हड़कंप मच गया है। दो कर्मचारियों के संक्रमित होने के बाद मंदिर के कार्यालय को बंद कर दिया गया है। इस बात की जानकारी मंदिर प्रशासन द्वारा कमिश्नर दीपक अग्रवाल को दे दी गयी है।

मंगलवार को मंदिर कार्यालय में तैनात कर्मियों का एंटीजेन टेस्ट हुआ था, जिसमे ये दो कर्मचारी संक्रमित पाए गए हैं। इन्हे होम क्वारंटाइन में रखा गया है। इन दोनों का सैम्पल जांच के लिए बीएचयू लैब भेजा गया है। लिपिक और गार्ड कुछ दिनों से सर्दी-जुकाम से पीड़ित बताए जा रहे थे। दोनों की जांच के बाद विधिवत सेनिटाइजेशन कराया गया और मंदिर कार्यालय बंद कर दिया गया।

बता दें कि पॉजिटिव आये कर्मियों के बाद कार्यालय में कार्यरत अन्य कर्मचारियों में भी दहशत फैल गई। उनकी भी जांच की गई। संयोग से बाकी कर्मचारियों में कोई लक्षण नहीं मिला। मंदिर कार्यालय के कुछ कर्मचारी पिछले कई दिनों से छुट्टी पर हैं। उनकी भी जांच कराने की मांग उठी है। मंदिर कार्यालय में दो दर्जन कर्मचारी कार्यरत हैं।

corona update : डॉक्टर, सिपाही सहित वाराणसी जिले में 93 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिले

corona-positive

वाराणसी। जिले में सोमवार को सायं से मंगलवार को पूर्वाहन तक बीएचयू लैब से प्राप्त 339 रिपोर्ट में से 50 तथा सायं तक प्राप्त 736 रिपोर्ट में से 43 सहित कुल प्राप्त 1075 रिपोर्ट में से 93 नये कोरोना संक्रमित मरीज पाये गये। जबकि कोरोना का इलाज करा रहे 40 मरीजों का सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें स्वस्थ घोषित कर घरों के लिए डिस्चार्ज किया गया।

इस प्रकार वाराणसी जनपद में कुल कोरोना मरीजों की संख्या 1479 हो गया है। जबकि 625 मरीज स्वस्थ होकर अपने अपने घरों के लिए डिस्चार्ज हो चुके हैं। वर्तमान में एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 820 है। जबकि 34 लोगों की अब तक मृत्यु हो चुकी है।

आज संक्रमित पाए गए मरीजों में नाटी इमली ईश्वरगंगी थाना जैतपुरा, सिकरौल सेंट्रल जेल रोड थाना कैंट, मलदहिया थाना कैंट, राजराजेश्वरी नगर कॉलोनी गिलट बाजार थाना शिवपुर, मैदागिन कोतवाली बैरक में रहने वाला सिपाही, उदयनगर कॉलोनी लक्ष्मणपुर थाना शिवपुर, भुवनेश्वर नगर कॉलोनी अर्दली बाजार थाना कैंट, नई बस्ती हुकूलगंज थाना कैंट, ईएसआईसी हॉस्पिटल, पुलिस लाइन पांडेपुर में रहने वाला पुलिस, शांतिपुरम कॉलोनी छोटा लालपुर थाना कैंट, परमहंस नगर कॉलोनी चोलापुर, पहड़िया थाना कैंट, कादीपुर थाना शिवपुर, छोटा लालपुर पांडेपुर, तारा धाम कॉलोनी महमूरगंज थाना सिगरा, आनंदपुरी कॉलोनी पहड़िया थाना सारनाथ, राजाबाजार नदेसर थाना कैंट, सरायनंदन खोजवा थाना भेलूपुर, महाबीर कॉलोनी कोलहुआ कमच्छा, एसपी कटरा के पीछे सोनिया थाना सिगरा, महामनापूरी कॉलोनी थाना लंका, भदैनी थाना भेलूपुर, तिलभांडेश्वर थाना भेलूपुर, ईश्वरगंगी नरहरपुरा जगदीश्वर मठ थाना कोतवाली के महंत, बाबतपुर थाना बड़ागांव, नदेसर थाना कैंट, मैदागिन कोतवाली, लक्ष्मीपुरा कॉलोनी थाना कैंट, कैंट थाने का कांस्टेबल, सिकरौल सेंट्रल जेल रोड थाना कैंट, कतुआपूरा थाना कोतवाली, पांडेपुर, शिवपुर, संजय नगर कॉलोनी पहड़िया थाना सारनाथ, शिफा कॉलोनी खजूरी पांडेपुर थाना कैंट, महमूरगंज रोड थाना सिगरा, दाऊजी कांप्लेक्स छित्तूपुर थाना सिगरा, छित्तूपुरा चंदुवा थाना सिगरा, थर्ड फ्लोर बिर्दोपुर थाना भेलूपुर, पंचकोशी रोड नॉर्मल स्कूल के पास थाना शिवपुर, चांदमारी लालपुर थाना शिवपुर, जेतपुरा, इंदिरा नगर कॉलोनी चितईपुर थाना मंडुआडीह, सत्यम नगर कॉलोनी चिरईगांव, साधवा लाला हुकूलगंज थाना जैतपुरा, लक्ष्मीपुरा अंधरापुल थाना कैंट, बुलानाला थाना कोतवाली, राजातालाब थाना रोहनिया, राम गांव पलहीपट्टी थाना चोलापुर, जगदीशपुर सेवापुरी थाना कपसेठी, महालक्ष्मी अपार्टमेंट तुलसीपुर थाना भेलूपुर में रहने वाला डॉक्टर, चौक, कंदवा रोहनिया खाने वाला सिक्योरिटी एजेंसी कर्मी, चेतगंज फायर स्टेशन का सिपाही, लहरतारा थाना मंडुआडीह, सारनाथ अनमोल नगर, तपस्या अपार्टमेंट तुलसीपुर थाना भेलूपुर, नईबस्ती हुकूलगंज थाना कैंट, महगांव सिंधोरा थाना चोलापुर, गयापुर आराजीलाइन, महामंडल नगर लहुराबीर थाना चेतगंज, अशोक विहार फेज-1 थाना सारनाथ, रूस्तमपुर थाना सारनाथ, लक्ष्मी कुंड, पंचकोशी पांडेपुर, रानीपुर भेलूपुर, सत्यम नगर कॉलोनी चिरईगांव, शुभम हॉस्पिटल, खोजवां शक्तिनगर थाना भेलूपुर, मीरा नगर एक्सटेंशन, लहंगपूरा औरंगाबाद, गायघाट थाना आदमपुर, गंगोत्री नगर कॉलोनी नेवादा थाना लंका, मिर्जामुराद तथा सिगरा बैंक कॉलोनी के रहने वाले हैं। यह हॉटस्पॉट बनाए जाएंगे।

Corona update : वाराणसी में मंगलवार को मिले 93 कोरोना पॉजिटिव केस, 40 को मिली छुट्टी

corona-positive

वाराणसी। जनपद में मंगलवार को भी कोरोना पॉजिटिव मामलों में इजाफा देखने को मिला है। बीएचयू से आई मेडिकल बुलेटिन के अनुसार आज जनपद में 93 कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं। वहीं 40 लोगों को आज ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। इसी के साथ जिले में एक्टिव केस की संख्या 820 पहुंच गई है।

मंगलवार को 93 केस मिलने के बाद जनपद में अब कोरोना प़ॉजिटिव मरीजों की संख्या 1479 हो गई है। इनमें से 625 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद घर को भेज दिये गए है। वहीं अब तक 34 लोगों की मौत हो चुकी है।

विस्तृत खबर थोड़ी देर में..

बीएचयू कोवि‍ड अस्‍पताल में ये कैसी व्‍यवस्‍था ? गंभीर मरीजों को भी नहीं मि‍ल रहा बेड, वीडि‍यो वायरल

वाराणसी। वैश्विक महामारी कोवि‍ड 19 से निपटने के लिए पूरी दुनिया अपने स्तर पर कोशिश कर रही हैं। 135 करोड़ की आबादी वाले अपने देश कोरोना भयावह ढंग से पांव पसार रहा है। वहीं वाराणसी में भी कोरोना मरीजों का आंकड़ा हर नये दि‍न के साथ तेजी से बढ़ रहा है। लगातार बढ़ रही मरीजों की तादात के कारण अब जि‍ले में बेड की समस्‍या भी दि‍खने लगी है।

वाराणसी के सर सुंदरलाल चि‍कि‍त्‍सालय के सुपर स्‍पेश्‍यल्‍टी ब्‍लॉक का एक वीडि‍यो सोशल मीडि‍या पर बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है।

वायरल हुए वीडियो में बीएचयू स्‍थि‍त कोवि‍ड 19 के लेवल 3 के अस्पताल सुपर स्‍पेशि‍यलि‍टी ब्‍लॉक के बाहर तीन एम्बुलेंस में कोरोना के सीरियस मरीज़ लेटे दिखे और अस्पताल के स्टाफ ने बेड खाली न होने का हवाला देते हुए उन्हें तब तक एडमिट करने से इंकार कर दिया।

फेसबुक पर प्रशांत पांडेय नामक व्‍यक्‍ति‍ की प्रोफाइल से वायरल हुए दो वीडियो के पहली क्‍लि‍प में एक व्यक्ति चीख चीख के ये बता रहा है कि‍ पौने दो घंटे से उनके बहनोई को एंबुलेंस में बि‍ठाकर रखा गया है और उन्‍हें एडमि‍ट नहीं कि‍या जा रहा है। वीडि‍यो बनाने वाले शख्‍स के अनुसार उनके मरीज को दीन दयाल उपाध्‍याय अस्‍पताल से बीएचयू के लि‍ये रेफर कि‍या गया है।

वीडि‍यो बनाने वाले शख्‍स ने 2 मिनट 13 सेकेण्ड के वीडियो में ये भी दि‍खाया कि‍ अस्‍पताल के बाहर तीन एंबुलेंस खड़ी हैं उनमें भी गंभीर अवस्‍था में मरीज़ एडमि‍ट होने के इंतजार में बैठे हैं। वहीं अस्‍पताल के बाहर मौजूद एंबुलेंसकर्मि‍यों ने भी बताया कि‍ यहां रोज का यही तमाशा है। गंभीर रोगि‍यों को यहां लाया जाता है और उन्‍हें भी काफी देरतक इंतजार कराया जाता है।

वहीं दूसरा वीडियो जो कि‍ 1 मिनट 26 सेकेण्ड का है, जि‍समें मरीज के रि‍श्‍तेदार सुपर स्‍पेशि‍यलि‍टी ब्‍लॉक के रि‍सेप्‍शन पर मौजूद कर्मचारि‍यों से बात कर रहे हैं। इस दौरान उन्‍हें सीधा जवाब दिया जा रहा है कि अभी बेड खाली नहीं है और जब तक खाली नहीं होगा हम मरीज़ को एडमिट नहीं करेंगे। मरीज़ के परिजन ने रिक्वेस्ट की, जि‍सपर अस्‍पतालकर्मि‍यों ने कहा कि आप के कहने से कुछ नहीं होगा। इसके अलावा वहां मौजूद एक व्यक्ति ने वीडियो बनाने पर भी टोका और कहा कि जो बनाना है बना लो कुछ नहीं होने वाला यहाँ।

खैर सोशल मीडि‍या पर ये दोनो वीडि‍यो काफी तेजी से वायरल हो रहे हैं। अगर सरकारी आंकड़ों की मानें तो वाराणसी के कोविड अस्पतालों में बेड की कहीं कोई कमी नहीं है। इस सबंध में जब मुख्‍य चि‍कि‍त्‍साधि‍कारी कार्यालय से संपर्क साधा गया तो वहां से बताया कि‍ इसके बारे में मुख्‍य चि‍कि‍त्‍साधि‍कारी ही कुछ बता सकेंगे जोकि‍ अभी मीटिंग में हैं।

Live VNS इस वायरल वीडि‍यो के सत्‍यता की पुष्‍टि‍ नहीं करता, लेकि‍न अगर ये वीडि‍यो सही है तो इससे लोगों की चिंता बढ़ाना स्‍वाभावि‍क है। बता दें कि‍ कुछ दि‍न पहले ही हरि‍श्‍चंद्र कॉलेज के पूर्व छात्रसंघ अध्‍यक्ष की मौत कोरोना संक्रमण से हुई थी, मौत से पहले का उनका ऑडि‍यो काफी वायरल हुआ था, जि‍समें उन्‍होंने बीएचयू अस्‍पताल में कोरोना मरीजों के स्‍वास्‍थ्‍य के साथ हो रहे गैरजि‍म्‍मेदाराना रवैये की पोल खोलकर रख दी थी।

यहां क्‍लि‍क करके देखें वायरल वीडि‍यो

Exclusive : कभी गलत नंबर देकर तो कभी मोबाइल स्‍वि‍च ऑफ करके ‘लापता’ हो जा रहे कोरोना पॉजि‍टि‍व

COVID FILE IMAGE

वाराणसी। वैश्विक महामारी कोरोना से लड़ने के लिए भले ही देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समय समय पर जनता को सचेत करने के लिए राष्ट्र के नाम सम्बोधन दे रहे हों। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश में मौजूद स्पेशल 11 की मीटिंग कर मौजूदा हालात का जायज़ा ले रहे हों या जिला प्रशासन लोगों से आगे आकर कोरोना की जांच करवाने की अपील कर रहा हो पर काफी लोग ऐसे भी हैं जो अभी भी लापरवाह बने हुए है। ऐसा हम नहीं कह रहे बल्‍कि‍ सरकारी आंकड़े की गवाही खुद दे रहे हैं।

वाराणसी की सड़कों पर कभी भी आप के बगल से या आप के साथ किसी दुकान पर कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ सामान खरीद सकता है या आप के साथ कि‍सी यात्रा में सफर कर सकता है, इसलिए सड़कों पर निकलने से पहले सावधान हो जाइये, क्योंकि रोज़ जारी हो रहे कोरोना पॉज़िटिव बुलिटेन में कई मरीज़ ऐसे मिल रहे हैं, जिनका संपर्क नंबर या तो बंद है या नॉट रीचेबल है, ज़्यादातर पर इनकमिंग की सेवा बहाल ही नहीं है। वहीं कइयों ने तो गलत नंबर दे रखा है। ऐसे में स्वास्थ्य महकमा ऐसे पॉजि‍टि‍व मरीजों से संपर्क करने में परेशान हैं।

जनपद में 16 जुलाई से लेकर 20 जुलाई तक 407 कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ पाए गए हैं, जिसमे 16 जुलाई को 68, 17 जुलाई को 71, 18 जुलाई को 88, 19 जुलाई को 65 और 20 जुलाई को 115 मरीज़ मिले हैं। इन पांच दिनों में 31 पॉज़िटिव मरीज़ ऐसे हैं जिनका स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलिटेन में यह साफ़ तौर पर अंकित है कि या उनका मोबाइल स्विच ऑफ़ है, गलत या नॉट रिचेबल है। ज़्यादातर मोबाइल की इनकमिंग सुविधा भी बंद है।

इस सम्बन्ध में हमने मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय से संपर्क साधा तो वहां से बताया गया कि ऐसे मरीज़ों को लोकेशन के आधार पर हमारी टीम ट्रेस करने की कोशि‍श कर रही है, जिन थानाक्षेत्र में ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई है वहां जाकर हमारी टीम उनके इलाके के आधार पर उन्हें ट्रेस कर रही है और जो लोग मि‍ल रहे हैं उन्‍हें एडमिट करवाया जा रहा है।

इसके बावजूद कई नंबर ऐसे हैं जो स्विच ऑफ़ मिले हैं। इन्हे कोविड पॉज़िटिव मरीज़ का मैसेज मिल भी रहा है या नहीं यह सोचने वाली बात है। यह भी हो सकता है कि ये लोग अभी भी शहर में बेधड़क टहल रहे हों।

ये है पांच दिनों की लिस्ट : –

16 जुलाई

50 वर्षीय पुरुष निवासी शिवपुर थाना शिवपुर, इनका नंबर बिज़ी बताया गया है।
40 वर्षीय पुरुष निवासी सोनिया, छित्तूपुर थाना सिगरा, इन्होने अपना मोबाइल नंबर गलत दर्ज कराया है।
60 वर्षीय पुरुष निवासी सिगरा थाना सिगरा, इन्होने कोई जवाबा नहीं दिया काल का।
45 वर्षीय महिला निवासी छित्तूपुर थाना सिगरा का मोबाइआ नंबर आउट ऑफ़ नेटवर्क है।
32 वर्षीय पुरुष निवासी चंदुआ हबीबपुरा थाना सिगरा का मोबाइल नंबर वैध नहीं है।
49 वर्षीय पुरुष निवासी माधोपुर थाना सिगरा का मोबाइल नंबर ऑफ़ है।
48 वर्षीय महिला निवासी सुसुवाहीं थाना लंका का मोबाइल नंबर ऑफ़ है।
30 वर्षीय पुरुष निवासी सुन्दर बगिया, बीएचयू कैम्पस थाना लंका कोई जवाब नहीं दे रहे हैं।

17 जुलाई

42 वर्षीय पुरुष निवासी सलारपुर थाना सारनाथ का मोबाइल आउट ऑफ़ कवरेज बता रहा है।
15 वर्षीय महिला निवासी कमौली का मोबाइल नंबर ऑफ़ है।
42 वर्षीय पुरुष निवासी गिलट बाज़ार थाना कैंट का मोबाइल नंबर ऑफ़ है।

18 जुलाई

20 वर्षीय महिला निवासी हनुमान फाटक थाना आदमपुर का मोबाइल स्विच ऑफ़ है।
36 वर्षीय पुरुष निवासी भुल्लनपुर का मोबाइल नेटवर्क कवरेज एरिया में नहीं है।
51 वर्षीय पुरुष निवासी विष्णुपुर ने गलत नंबर दिया है।
32 वर्षीय महिला निवासी हुकुलगंज थाना कैंट का नंबर रिस्पॉन्ड नहीं कर रहा है।
70 वर्षीय पुरुष निवासी औरंगाबाद थाना सिगरा का मोबाइल नेटवर्क क्षेत्र में नहीं है।
32 वर्षीय पुरुष निवासी सिगरा के मोबाइल पर इनकमिंग अवेलेबल नहीं है।
34 वर्षीय पुरुष निवासी पूरा रघुनाथपुर, बाबतपुर, थाना फूलपुर कोई जवाबा नहीं दे रहे हैं।
60 वर्षीय महिला निवासी दारानगर, थाना कोतवाली कोई जवाब नहीं दे रहीं हैं।
36 वर्षीय पुरुष निवासी रमेश नगर कालोनी, नई बस्ती पांडेयपुर का नंबर उपलब्ध नहीं है।
35 वर्षीय महिला निवासी विराट नगर कालोनी पांडेयपुर कोई रिस्पॉन्स नहीं दे रहीं।

19 – जुलाई

45 वर्षीय पुरुष निवासी सुंदरपुर थाना लंका का मोबाइल नंबर इनवैलिड है।
29 वर्षीय महिला निवासी कंदवा, छित्तूपुर थाना रोहनिया का मोबाइल स्विच ऑफ़ है।
25 वर्षीय पुरुष कृष्ण देव नगर, सरायनंदन थाना लंका का मोबाइल कोई रिस्पॉन्ड नहीं कर रहा है।

20 जुलाई

52 वर्षीय पुरुष निवासी भुल्लनपुर के मोबाइल की इनकमिंग सेवा बंद।
62 वर्षीय पुरुष निवासी गोलघर कचहरी थाना कैंट का मोबाइल नंबर स्विच ऑफ़ है।
45 वर्षीय पुरुष निवासी हीरामनपुर सारनाथ थाना सारनाथ कोई जवाब नहीं दे रहे।
18 वर्षीय पुरुष निवासी जक्खिनी थाना रोहनिया की इनकमिंग काल सेवा बंद है।
26 वर्षीय पुरुष निवासी नियर पैराडाइज़ स्कूल भगवानपुर थाना लंका का मोबाइल ऑफ़ है।
40 वर्षीय पुरुष निवासी नई बस्ती, थाना लालपुर-पांडेयपुर का मोबाइल ऑफ़ है।
35 वर्षीय पुरुष निवासी हुकुलगंज थाना कैंट कोई जवाब नहीं दे रहे हैं।

वाराणसी : एकाउंटेंट हुए कोविड पॉज़िटिव, विकास भवन दो दिनों के लिए बंद

वाराणसी। कोरोना का संक्रमण अब सरकारी कार्यालयों में भी फैलना शुरू हो गया है। जानकारी के अनुसार ग्रामीण अभियंत्रण विभाग में कार्यरत मंडलीय लेखाकार कोविड 19 पॉज़िटिव पाए गए हैं। इसके साथ ही पूरे विकास भवन को दो दिनों के लिए बंद कर दिया गया है।

दो दिन तक विकास भवन के हर कार्यालय और हर हिस्से का सेनीटाइज़ेशन किया जाएगा।

विकास भवन के सभी कार्यालय मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुल्गी के आदेश के बंद कर दिए गए हैं।

सुरक्षाकर्मियों ने दोनों गेट को भी ताला लगा दिया है। विकास भवन के कर्मचारी के कोरोना पॉज़िटिव मिलने के बाद यहां कार्य करने वाले सभी कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

वाराणसी की ये संस्था तैयार कर रही खादी से M95 मानक के मास्क, बाज़ारों में उपलब्ध

वाराणसी। खादी उद्योग के लिए भारत सरकार नित्य नए प्रयास कर रही है पर अभी भी खादी के सामान युवा पीढ़ी में अपनी पैठ बनाने में नाकाम साबित हो रही है।  ऐसे में वाराणसी की एक संस्था ने कोरोना अकेला में खादी के मास्क बनाने की ठानी और इस समय इस संस्था में लॉकडाउन में घर में मौजूद 30 महिलाएं खादी के M95 मास्क के मानक के अनुरूप बनाने में जुटी हुई हैं। ये मास्क वाराणसी के बाज़ारों में उपलब्ध भी है।

वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए मास्क पहनना सार्वजनिक स्थलों पर अनिवार्य किया गया है।  ऐसे में बाज़ार में बिकने वाले M95 मास्कों की बिक्री बढ़ गयी और एकाएक ऊँचे दामों में बिकने लगे। कुछ ही दिनों में इसकी कमी भी बाज़ारों में देखने को मिली और जब ये दुबारा से मार्किट में आये तो महंगे दामों में। इनकी उपयोगिता को देखते हुए वाराणसी की एक संस्था ने M95 मास्क के मानक के अनुरूप  खादी के कपडों से  बनाना शुरू किया है और अब ये मास्क बाज़ारों में प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत बिक रहे हैं।

इस सम्बन्ध में पांडेयपुर स्थित सेवा आश्रम संस्था के प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि हमारी संस्था के आस पास जो महिलाएं यही और काम करती हैं वो लॉकडाउन में अपने घरों में हैं। इनमे से 60 महिलाएं और जो हमारे प्रवासी भाई बहन आये हैं उनमे से कुछ लोगों को लेकर हम खादी के कपड़ों का मास्क M95 मानक के अनुरूप बच्चों, बूढ़ों जवान और महिलाओं की पसंद को देखते हुए उसी फैशन का बनाया जा रहा है।

प्रवीण ने बताया कि हम ये कार्य आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत कर रहे हैं और हम चाहते हैं कि यह मास्क देश-विदेश हर जगह पहुंचे।  इसकी दर हमने बहुत ही न्यूनतम रखी है।

खादी ग्रामउद्योग के अधिकारी ने बताया कि हमारे मास्क को बहुत ज़्यादा डिज़ाइन करने और सेलेक्शन के बाद बनाना शुरू किया गया है। अब ये मास्क बाज़ारों के साथ साथ ऑनलाइन बिक्री केंद्रों और हमारे आउटलेट्स पर भी मौजूद हैं। इनकी गुणवत्ता M95 मास्क की जैसी ही है। ये मास्क सिर्फ 30 रुपये का है और सुलभ है साथ ही वाशेबल भी है।

मास्क को बना रही प्रतिका मिश्रा ने बताया कि रोज़ाना हम लोग 30 से 40 मास्क एक आदमी बना रहे हैं। इस कार्य से जुड़ कर हम लॉकडाउन में अपने परोवार का भरणपोषण भी कर रहे हैं। वहीं रिंकी पटेल ने बताया कि मास्क बनाना हमें अच्छा लग रहा है और लोगों को संक्रमण से बचा रहा है ये मास्क ये सुनकर और भी अच्छा लग रहा है।

देखें तस्वीरें : 

 

वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं ने बनायी मोदी, ट्रम्प और इंद्रेश राखी, 7 साल से जारी है परम्परा

वाराणसी। वर्ष 2013 में जब नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तक से काशी की मुस्लिम महिलायें मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी के नेतृत्व में मोदी राखी बनाकर भेज रही हैं। अब यह परम्परा में शामिल हो गया। इसी क्रम में इन्द्रेश नगर (लमही) के सुभाष भवन में मुस्लिम महिला फाउण्डेशन एवं विशाल भारत संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुये मुस्लिम महिलाओं ने गीतों के साथ मोदी, ट्रम्प और इन्द्रेश राखी बनाया।

मुस्लिम महिलाओं ने मोदी के ऊपर ढ़ोल की थाप के साथ स्वरचित गीत गाकर राखी बनाना शुरू किया। सितारा, टिक्की, गत्ता, लेस और मोदी की तस्वीर का प्रयोग कर मोदी राखी बनाया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इन्द्रेश कुमार ने कैथल से ऑनलाईन मोदी राखी का उद्घाटन किया।

राखी का त्यौहार वैसे तो भाई-बहनके स्नेह का प्रतीक है, लेकिन रक्षा सूत्र का सम्बन्ध बहनों के साथ-साथ देश की रक्षा से भी है। चीन की धोखेबाजी और विस्तारवादी नीति से नाराज मुस्लिम महिलाओं ने न सिर्फ चीनी राखी के बहिष्कार की घोषणा की बल्कि उसका विकल्प भी दिया।

मुस्लिम महिलाओं ने मोदी के साथ-साथ चीन के मसले पर भारत का खुलकर साथ देने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और चीनी सामानों का बहिष्कार कराकर चीन की आर्थिक सत्ता को घुटने पर लाने वाले सामाजिक नेता इन्द्रेश कुमार के नाम की भी राखी बनायी और भारतीय डाक से उनको भेजा। मोदी राखी बनाकर वितरित भी की जायेगी ताकि बहनें अपने भाई की कलाई पर मोदी राखी बांधकर सम्मान, सुरक्षा, संस्कार, स्वाभिमान और देश की रक्षा का भाव महसूस कर सकें।

इस अवसर पर इन्द्रेश कुमार ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री विश्व समुदाय के नेता हैं, वे अपने प्रभाव का इस्तेमाल छोटे देशों की सुरक्षा के लिये करते हैं। मुस्लिम महिलायें मोदी राखी बनाकर चीन के आर्थिक साम्राज्य को चुनौती दे रही हैं। चीन के किसी भी सामान का इस्तेमाल न करने की शपथ लेकर मुस्लिम महिलाओं ने पूरी दुनियां को यह बता दिया कि अब दुनियां के देश चीन की दादागीरी नहीं बर्दाश्त करेंगे। मुस्लिम महिलाओं का मोदी के प्रति स्नेह भारत की सांस्कृतिक एकता की पहचान है। हिन्दू-मुस्लिम बहनें एक समान रूप से मोदी को अपना भाई मानती हैं। ये बहनें मुझे भी राखी बांधती आ रही हैं। इनके लिये मेरी शुभकामनायें और आशीर्वाद सदा है।

मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी ने कहा कि ‘नरेन्द्र मोदी ने राखी का फर्ज निभाया। वर्ष 2013 में ही मुस्लिम महिला फाउण्डेशन ने इन्द्रेश कुमार के माध्यम से मोदी जी को राखी भेजकर तीन तलाक के खात्मे की मांग की थी। एक भाई और पिता की तरह मुस्लिम बेटियों और बहनों का ख्याल रखा। लाखों मुसलमानों का घर टूटने से बचा लिया और करोड़ों मुस्लिम महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा प्रदान की। नरेन्द्र मोदी का एहसान मुस्लिम महिलायें कभी नहीं भूल सकती हैं। 370 और राम मंदिर का विवाद खत्म कराकर नरेन्द्र मोदी सबके दिलों पर हजारों सालों तक राज करने वाले बादशाह बन गये हैं।

विशाल भारत संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष डॉ राजीव श्रीवास्तव ने कहा कि मुस्लिम महिलायें डोनाल्ड ट्रम्प को राखी भेजकर भारत और अमेरिका के सम्बन्धों को मजबूती प्रदान करेंगी, साथ ही चीन को यह संदेश देने का काम कर रही हैं कि हर मोर्चे पर चीन का बहिष्कार किया जायेगा। हिन्दुस्तान की कोई बहन अपने भाई की कलाई पर खून से सने चीनी राखी को नहीं बांधेंगी। अब हिन्दुस्तान में महापुरूषों की तस्वीर वाली घर की बनी राखी बांधी जायेगी।‘

राखी बनाने में नजमा परवीन, सोनी बानो, अर्चना भारतवंशी, डा मृदुला जायसवाल, नाजमा बानो, नगीना, मुन्नी बेगम, सुनीता श्रीवास्तव ने सहयोग किया।

देखें वीडियो

देखें तस्वीरें :