श्रीराम धुन में जब तक मन तू मगन न होगा, के स्वर से संगीत के इस पुरोधा ने दी राम मंदिर निर्माण पर शुभकामना

PADMVIBHUSHAN CHANNULAAL

वाराणसी। श्रीराम धुन में जब तक मन तू मगन न होगा, जग जाल छूटने का तब तक जतन न होगा। ये बोल हैं सुप्रसिद्ध ठुमरी गायक पद्मविभूषण छन्नूलाल का, जिन्होंने राम मंदिर निर्माण के पहले 5 अगस्त को होने जा रहे भूमि पूजन पर देश के प्रधानमंत्री को शुभकामना और धन्यवाद इस स्वर से दिया है।

बनारस में रहने वाले आजमगढ़ में जन्मे किराना संगीत घराने के संगीतज्ञ पद्मविभूषण छन्नूलाल ने देश के प्रधानमंत्री को काशी से कोरोना काल में शुभकामना और धन्यवाद, संगीत के माध्यम से भेजा है।

ठुमरी गायक छन्नूलाल ने कहा कि राम मंदिर के लिए प्रधानमंत्री द्वारा राम मंदिर का नीव रखने के बाद रामराज्य की भी स्थापना होगी। पंडित छन्नू लाल ने सभी से राम नाम का उच्चारण करते रहने को कहा। उन्होंने कहा कि बड़े इंतजार के बाद यह दिन आया है यह पूरे देश के लिए बड़ी खुशी की बात है। मोदी जी ने उस काम को पूरा किया जो नहीं हो पा रहा था, सभी लोगों को उन्हें धन्यवाद देना चाहिए।

उन्होंने श्रीराम धुन में जब तक तू मन मगन न होगा की सुर के साथ काशी के संगीत घराने के ताज भारतीय संगीत शास्त्र और पदम् भूषण और पद्मविभूषण से सम्मानित पंडित छन्नूलाल मिश्रा ने अयोध्या में श्री राम जन्म भूमि मंदिर के शिलान्यास के शुभ अवसर पर भजन गाकर समस्त देशवासियों को बधाई दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों हो रहे इस पावन पतित अवसर को देश के लिए रामराज्य की स्थापना के निर्माण होने की बात कही।

भारतीय शास्त्र गायक किराना घराने के पंडित छन्नूलाल मिश्रा ने राम मंदिर निर्माण पर आनन्दित होकर राम नाम मुख से लेने की बात कही। उन्होंने कहा कि राम नाम बिन सब व्यर्थ है।उन्होंने भजन से विभोर होकर प्रभु श्रीराम के प्रति अपने भक्ति भाव को प्रकट किया। अपने संगीतमय अंदाज में अयोध्या में बन रहे राम मंदिर पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी अपने जबान के पक्के है। उन्होंने जनता से वादा किया था। राम मंदिर के लिए जिसे वे पूरा कर रहे हैं।

पंडित छन्नूलाल ने कहा कि 5 अगस्त को हो रहे भूमि पूजन और शिलान्यास में पीएम मोदी की उपस्थिति देश के लिए एक ऐतिहासिक क्षण हैं। राम राज्य की स्थापना हो रही हैं मंदिर निर्माण के साथ जो की एक इतिहास होगा।

देखें वीडियो

श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन में रखा जाएगा बनारस का ये ख़ास सामान, काशी के विद्वान् लेकर पहुंचे हैं अयोध्या

This special item of Benaras will be kept in the Bhumi Pujan of Shri Ram temple

वाराणसी। 400 साल के बाद श्री राम मंदिर का हर सनातनी का सपना साकार होने को है। 5 अगस्त को अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी श्रीराम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे और मंदिर के निर्माण का कार्य शुरू हो जाएगा। सनातन धर्म के अनुसार हर शुभ कार्य में पान रखा जाता है। ऐसे में शिव की नगरी काशी का प्रसिद्द पान भगवान् श्रीराम के मंदिर के भूमि पूजन में मौजूद रहेगा।

इसके लिए बनारस के चौरसिया समाज ने स्पेशल 5 चांदी के पान बनवाये हैं और ये ख़ास पूजा के पान काशी विद्वत परिषद् के तीन प्रकांड विद्वान् वाराणसी से अयोध्या लेकर पहुँच चुके हैं।

काशी विद्वत परिषद के मंत्री और संयोजक आचार्य रामनारायण द्विवेदी ने इसे लेकर अयोध्या कुछ करने से पहले बताया कि वे 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास में काशी के विद्वतजनों के साथ जा रहे हैं, जिसमे वे चौरसिया समाज द्वारा 5 चांदी के पान अर्पण करेंगे प्रभु श्रीराम के चरणों में, शास्त्रों में चांदी के पान का धार्मिक अनुष्ठान में अत्यधिक महत्व है। मान्यता अनुसार सभी देवी देवता के किसी भी पूजा अनुष्ठान सभी, पंचोपचार पूजन, षोडशोपचार पूजन, में पान का विशेष महत्व है।

मंत्री रामनारायण द्विवेदी ने भगवान शिव और भगवान श्री राम एक दूसरे के पूरक हैं ऐसे में पूजन के लिए चौरसिया समाज की तरफ से उसी कड़ी को जोड़ने के लिए यह बेहद अच्छी पहल है।

इस सम्बन्ध में हरिश्चंद्र महाविद्यालय के अध्यक्ष नागेश्वर प्रसाद चौरसिया ने बताया कि काशी विद्वत परिषद को चौरसिया समाज द्वारा 5 चांदी का पान रामजन्म भूमि के शिलान्यास के अवसर पर प्रभु श्रीराम के चरणों में अर्पित करने के लिए दिया गया है। हमने काशी विद्वत परिषद के गुरु राम नारायण द्विवेदी को यह कहकर निवेदन किया है कि प्रभु श्रीराम के पावन अवसर पर चौरसिया समाज की ये छोटी सी भेंट प्रसाद स्वरूप ग्रहण करे।

सौरभ चौरसिया बंटी ने बताया कि चौरसिया समाज द्वारा शास्त्रों में शुभ माने जाने वाले चांदी के5 पान को अयोध्या में पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा किये जा रहे भूमि पूजन के लिए सप्रेम भेंट दिया जा रहा है। ऐसी मान्यता है कि किसी भी धर्मिक कार्य की शुरुआत बिना भूमि पूजन के नही हो सकती हैं। चौरसिया समाज के उपाध्यक्ष दीपक चौरसिया ने बताया कि 5 अगस्त के लिए काशी से भेजे जा रहे चांदी के पान अयोध्या भूमि पूजन के धार्मिक अनुष्ठान के महत्व को देखते हुए दिया जा रहा है। क्योंकि कोई भी कार्य की शुरुआत बिना रजत ताम्बूल के होना शुभ नही है।

शिव की काशी में हिन्दू मुस्लिम मिलकर कर रहे हैं रामचरितमानस का पाठ, राम मंदिर निर्माण से हर्ष का माहौल

In Shiva Kashi Hindu Muslims are jointly reciting Ramcharit Manas creating an atmosphere of joy

वाराणसी। श्रीराम जन्म भूमि मंदिर के लिए 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन करेंगे। इसके लिए अयोध्या को सजाया संवारा जा रहा है वहीं दूसरी तरह अड़भंगी भोले की नगरी काशी में भगवान् शिव के भक्त श्रीराम के मंदिर बनने की ख़ुशी में रामचरित मानस का पाठ कर रहे हैं। जनपद के लमही स्थिति विशाल भारत संस्था के प्रांगण में हिन्दू मुस्लिम बहनें मिलकर रामचरितमानस का पाठ कर रही हैं और अपने पूर्वज के मंदिर निर्माण पर हर्ष ज़ाहिर कर रही हैं।

महिलाओं से घिरी बुर्का ओढ़े ये महिला हैं मुस्लिम महिला फाउंडेशन की नेशनल सदर नाज़नीन अंसारी जो रामचरित मानस का पाठ बखूबी कर रहीं हैं। ये रामचरितमानस के पाठ के साथ साथ यहाँ उपस्थित लोगों को उसका भावार्थ भी बता रही हैं।

नाज़नीन अंसारी ने बताया कि हम सभी हिन्दू मुस्लिम महिलाएं रामचरितमानस का पाठ कर रही हैं। यह पाठ 5 अगस्त तक अनवरत जारी रहेगा। नाज़नीन ने बताया कि यह बहुत ही ख़ुशी की बात है कि हमारे पूर्वज भगवान् श्री राम का मंदिर अब बनेगा और उसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में भूमि पूजन करेंगे। यह हर्ष का विषय है कि वर्षों का इंतज़ार अब ख़त्म होने जा रहा है।

रामचरित मानस के पाठ में मौजूद ईली भारतवंशी ने बताया कि यह उल्लास और हर्ष का विषय है कि हमारे आराध्य भगवान् श्रीराम का मंदिर बनने जा रहा है। हम सभी उस काशी में रहते हैं जिसके प्रभु महादेव के आराध्य हैं श्रीराम ऐसे में हम लोग 5 अगस्त को काशी को राममय कर देंगे अपने इस रामचरित मानस के पाठ से।

देखें वीडियो

लालपुर पाण्डेयपुर थानाध्यक्ष सहित दो उपनिरीक्षक लाइन हाज़िर

वाराणसी। जनपद में क़ानून व्यवस्था को प्रभावी बनाने के लिए एसएसपी अमित पाठक ने मंगलवार की सुबह दो उपनिरीक्षक को लाइन हाज़िर कर दिया।

एसएसपी अमित पाठक ने थानाध्यक्ष लालपुर-पाण्डेयपुर उपनिरीक्षक धनञ्जय कुमार पांडेय और उपनिरीक्षक ईश्वर दयाल दूबे चौकी प्रभारी संकट मोचन को लाइन हाज़िर कर दिया है। दोनों उप निरीक्षकों के खिलाफ यह कार्रवाई कर्तव्यों के निर्वाहन में लापरवाही बरतने के आरोप में की गई है।

बता दें कि वाराणसी के नदेसर-चौकाघाट रेलवे ट्रैक पर ट्रेन के सामने कूद कर बिहार के मूल निवासी और नई बस्ती पांडेयपुर में रहने वाले रंजीत राम(38) ने बीते दो अगस्त को जान दे दी थी। 30 जून को रंजीत की पत्नी और दोनों बच्चे अचानक गायब हो गए। रंजीत ने तीनों की काफी खोजबीन की लेकिन जब सफलता नहीं मिली। इसके बाद उसने 18 जुलाई को लालपुर-पांडेयपुर थाने में तहरीर देकर कार्रवाई की गुहार लगाई।

रंजीत की पत्नी और बच्चों को तलाशना तो दूर लालपुर-पांडेयपुर थाने की पुलिस ने उसकी तहरीर के आधार पर गुमशुदगी भी नहीं दर्ज की। इससे परेशान रंजीत ने आत्महत्या कर ली। रंजीत की पत्नी और बच्चे कहां हैं, यह अब भी किसी को पता नहीं है। इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप के लालपुर-पांडेयपुर थानाध्यक्ष धनंजय पांडेय को लाइन हाजिर कर दिया गया।

उधर, लोगों से दुर्व्यवहार को लेकर आए दिन सुर्खियों में रहने वाले संकटमोचन चौकी इंचार्ज ईश्वर दयाल दूबे को लाइन हाजिर कर एसएसपी ने विभागीय जांच का आदेश दिया है।

Corona Update : वाराणसी में सोमवार को मि‍ले 139 कोरोना पॉजि‍टि‍व मरीज, 3 की मौत 133 मरीज हुए ठीक

वाराणसी। जि‍ले में सोमवार को एक बार फि‍र कोरोना पॉजि‍टि‍व नये मरीजों का आंकड़ा 100 पार रहा। आज बीएचयू लैब से प्राप्‍त रि‍पोर्ट के आधार पर 139 कोरोना पॉजि‍टि‍व मरीज मि‍ले हैं। इसके अलावा 3 मरीजों की मौत की पुष्‍टि‍ भी शाम को जारी मेडि‍कल बुलेटि‍न में की गयी है। साथ ही 133 मरीज ठीक होने के बाद आइसोलेशन से डि‍स्‍चार्ज कि‍ये गये हैं।

सोमवार शाम आयी कोवि‍ड 19 बुलेटि‍न के अनुसार वाराणसी में अबतक जि‍ले में 3232 कोरोना मरीज मि‍ल चुके हैं। वहीं 1380 मरीज ठीक होकर डि‍स्‍चार्ज कि‍ये जा चुके हैं। इनमें 1223 मरीज हॉस्‍पि‍टल से जबकि‍ 157 मरीज होम आइसोलेशन से डि‍स्‍चार्ज कि‍ये जा चुके हैं। सोमवार को 89 मरीज होम आइसोलेशन से जबकि‍ 44 मरीज अस्‍पताल से डि‍स्‍चार्ज कि‍ये गये हैं।

वाराणसी में कोरोना से अबतक 66 लोगों की मौत हो चुकी है। सोमवार को 3 लोगों ने कोरोना के कारण दम तोड़ दि‍या है। वहीं जि‍ले में अब 1786 कोवि‍ड पॉजि‍टि‍व मरीज एक्‍टि‍व हैं जि‍नका इलाज चल रहा है।

आज की वि‍स्‍तृत रि‍पोर्ट थो़ड़ी देर में।

सावन के अंतिम सोमवार को महादेव के दरबार में उमड़े भक्त, गोदौलिया तक लगी कतार

Devotees gathered at Mahadev's court on the last Monday of Sawan, queued up to Godoulia (11)

वाराणसी। कोरोना महामारी के दौरान सावन के पवित्र माह में इस वर्ष काशी में भक्तों का रेला देखने को नहीं मिला पर सावन के आखरी सोमवार को पड़े रक्षाबंधन पर्व पर भक्तों की कतार महादेव के दर्शन के लिए देखी गयी। मंगला आरती के बाद बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने के लिए भक्त उमड़े। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए भक्तों ने महादेव का सावन के अंतिम दिन झांकी दर्शन के साथ ही साथ जलाभिषेक भी किया।

इस वर्ष पड़े सावन के चार सोमवारों में अंतिम सोमवार को महादेव का दर्शन करने के लिए श्रद्धालु आतुर दिखे। कोरोना काल में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और सेनीटाइजर के साथ ही साथ थर्मल स्कैनिंग की प्रक्रिया से गुज़र कर भक्तों ने महादेव के दर्शन किए।

छत्ताद्वार के बाद अपनी बारी की प्रतीक्षा कर रही महिला प्रतिमा उपाध्याय ने बताया कि आज सावन का चौथा सोमवार है और ऐसा संयोग कई वर्ष बाद पड़ता है जब सावन का चौथा सोमवार, रक्षाबंधन पर्व एक ही दिन पड़े। ऐसे में महादेव का दर्शन का आज हम सभी देश से कोरोना के खात्मे कि प्रार्थना करेंगे।

देखिये तस्वीरें 

??????

मुस्लिम बहनों ने अपने इस भाई को बांधी श्रीराम लिखी राखी, 25 वर्षों से निभा रहीं रिश्ता

Muslim sisters tied Rakhi to this brother relationship for 25 years

वाराणसी। भाई-बहन के रिश्तों का यह बंधन प्रेम, विश्वास और सद्भावना का है। धर्म-जाति से ऊपर रक्षाबंधन के त्यौहार को सबसे पवित्र माना जाता है। विशाल भारत संस्थान एवं मुस्लिम महिला फाउण्डेशन के संयुक्त तत्वावधान में सुभाष भवन, इन्द्रेश नगर, लमही में रक्षाउत्सव आयोजित किया गया। श्रीराम जन्मभूमि पूजन को देखते हुए मुस्लिम बहनों ने अपने हाथ से श्रीराम राखी बनाई और अपने भाई डॉक्टर राजिव श्रीवास्तव को बाँधी। मुस्लिम महिलाएं यह कार्य अनवरत 25 वर्षों से करती चली आ रही हैं।

रक्षाबंधन त्यौहार के बहाने कच्चे धागे से रिश्तों को जोड़ने का गवाह बना लमही का सुभाष भवन, जहां मुस्लिम बहनें अपने भाई विशाल भारत संस्थान के अध्यक्ष डा राजीव श्रीवास्तव को राखी बांधने पहुंची। 25 वर्षों से अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने वाली शहीदुन्निसा ने कभी जाति धर्म के भेद को नहीं माना। हर साल अपने भाई को पूरे विधि विधान से राखी बांधती हैं।

शहीदुन्निसा तिलक लगाकर डॉ राजीव श्रीवास्तव की आरती करती हैं और अपने भाई का मुंह मीठा कराती हैं। भाई बहन का यह रिश्ता दुनिया के लिये एकता की मिसाल है, लेकिन इन भाई बहनों के लिये एक दूसरे के सुख दुख में शामिल होने और रोजमर्रा की जिन्दगी जीना का तरीका। शहीदुन्निसा ने इस बार अपने भाई की खुशी के लिये श्रीराम राखी बांधी और अल्लाह से दुआ किया कि पूरे हिन्दुस्तान के लोग एक दूसरे से रिश्तों में बंध जायें और हमेशा के लिये नफरत खत्म हो जाये।

इस अवसर पर डा राजीव श्रीवास्तव ने कहा कि रक्षाबंधन रिश्तों की श्रृंखला तैयार करता है, धर्मों के बीच सेतु का काम करता है और नफरत को खत्म करने की गारंटी देता है। राखी बांधने मात्र से ही भावना पवित्र हो जाती है और महिला बहन के रूप में स्वीकार्य बन जाती है। उस महिला का पूरा परिवार रिश्तों के बंधन में बंध जाता है, जहां धर्म और जाति का भेद स्वतः समाप्त हो जाता है। राखी दिलों को जोड़ने वाला है और रिश्तेदारी बढ़ाने वाला है। पूरी दुनियां में भेद को खत्म करके समानता लाने के लिये भारतीय संस्कृति के महान त्यौहार रक्षाबंधन को बढ़ावा देना चाहिए।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इन्द्रेश कुमार को हिन्दू-मुस्लिम बहनों ने वर्चुअल राखी बांधी। इस अवसर इन्द्रेश कुमार ने कहा कि भगवान श्रीराम का मंदिर निर्माण भारत के सांस्कृतिक पुनर्जागरण का प्रतीक है। यह रहने वाले सभी मुस्लिम भारतीय हैं, इनके पूर्वज भगवान श्रीराम हैं, ये अरबी संस्कृति को नहीं बल्कि भारतीय संस्कृति को मानने वाले हैं, इसलिये रक्षाबंधन मनाते हैं।

इस कार्यक्रम में डा शालिनी शाह, नजमा परवीन, नगीना बेगम, नाजमा बानो, अर्चना भारतवंशी, डा मृदुला जायसवाल, पूनम श्रीवास्तव, सुनीता श्रीवास्तव, सरोज देवी, गीता देवी, अर्चना श्रीवास्तव, मैना देवी, रमता, प्रियंका आदि ने भाग लिया।

विप्र सम्प्रदाय ने किया वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच गंगा में श्रावणी उपाकर्म

Vipr Sampraday performed Shravani Upakram in Ganga amid Vedic chanting

वाराणसी। प्रतिवर्ष सावन माह की पूर्णिमा तिथि को विप्र समाज गंगा की गोद में अपना श्रावणी उपाकर्म करता है। इसी क्रम में आज विप्र समाज ने अहिल्याबाई गंगा घाट पर प्रायश्चित संकल्प, स्वाध्याय व संस्कार का उपाकर्म किया। यह श्रावणी उपाकर्म को हिमाद्री संकल्प के साथ किया गया। वैदिक कालीन परम्परा को अक्षुण रखते हुए काशी का विप्र समाज प्रतिवर्ष श्रावण माह के पूर्णिमा तिथि को गंगा तट रक्षाबंधन के दिन यह कार्य सदियों से चला आ रहा है।

रक्षाबन्धन के पर्व पर जहां बहने भाइयों को सुबह से ही राखी बांधकर उनकी दीर्घायु की प्रार्थना कर रहीं है तो भाई उनकी रक्षा का संकल्प ले रहे हैं। वहीं सदियों की परम्परा को अहिल्याबाई घाट पर विप्र समाज ने संपन्न किया। शुक्लयजुर्वेदीय माध्यान्दिनी शाखा के ब्राह्मणों द्वारा शास्त्रार्थ महाविद्यालय के वैदिक आचार्य पंडित विकास दीक्षित के आचार्यत्व में वैदिक मंत्रों के उच्चारण के बीच विप्र समाज का श्रावणी उपाकर्म गंगा तट पर मनाया गया।

इस सम्बन्ध में आचार्य पंडित विकास दीक्षित ने बताया कि इस पर्व के दिन गोमय, गौमूत्र, गोदुग्ध, गोदधि, गोघृत मिश्रित पंचगव्य से स्नान कर भस्म लेपन किया जाता है। उसके बाद कुशा, दुर्वा व अपामार्ग से मार्जन कर ब्राह्मणों ने अंत:करण और बाह्यकरण की शुद्धि के साथ सूर्य का ध्यान कर तेज की कामना की जाती है। इसके बाद विप्र समाज के सभी लोगों ने नूतन यज्ञोपवीत का ऋषि पूजन कर उसे धारण किया।

विप्र समाज के संयोजक आचार्य विकास दीक्षित ने बताया कि श्रावणी द्वारा वर्ष पर्यन्त ज्ञात-अज्ञात पापकर्मों के प्रायश्चित के साथ जगत कल्याण की कामना भी की जाती है। प्रायश्चित संकल्प, स्वाध्याय व संस्कार के लिए यह श्रावणी उपाकर्म मनाया जाता है। प्रतिवर्ष सैकड़ों की संख्या में ब्राह्मण व बटुक इसको करते आ रहे थे, किन्तु इस वर्ष कोरोना संक्रमण को देखते हुए संख्या न्यूनतम की गई है। .

शहीद फ्लाइट इंजीनियर के घर पहुंचे अजय राय, बहनों से बंधवाई राखी, लिया रक्षा संकल्प

Ajay Rai arrives at martyr flight engineer's house, tied Rakhi with sisters, took Defense Resolution (1)

वाराणसी। 2 फरवरी 2019 को जम्मू कश्मीर के बड़गाम में क्रैश हुए एमआई-17 के अंदर मौजूद फ्लाइट इंजिनियर वाराणसी के विशाल पांडेय भी शहीद हो गए थे। दो बहनों के भाई के शहीद होने के बाद पड़े दुसरे रक्षाबंधन के त्यौहार पर सोमवार को कांग्रेस विधायक अजय राय ने शहीद विशाल पांडेय के घर पहुंचकर उनकी बहनों से राखी बंधवाई और उनकी रक्षा का संकल्प लिया। इसके अलावा उन्होंने जीवन भर बहनों की मदद का भरोसा दिया।

हेलीकाप्टर क्रैश में शहीद हुए विशाल पांडेय की सहादत को एक वर्ष से अधिक का समय पूरा हो चुका है। उसके बावजूद उन्हें उनकी बहनें हर तीज त्यौहार पर याद करती हैं। ऐसे में रक्षाबंधन पर्व पर भी घर में सन्नाटा सा पसरा हुआ था, जिस वक़्त कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय राय के साथ कांग्रेस पदाधिकारी और कार्यकर्ता विशाल पांडेय के घर पहुंचे।

यहाँ विशाल पांडेय के पिता वियजय शंकर पांडेय की डबडबाई आँखों ने उनका स्वागत किया तो अजय राया ने उनका हाथ पकड़ लिया। उसके बाद कांग्रेस विधायक अजय राय ने शहीद विशाल पांडेय की दोनों बहनों से राखी बंधवाई और उन्हें आशीर्वाद दिया साथ ही उनकी रक्षा और हर संभव मदद का संकल्प लिया। पूर्व विधायक के अलावा अन्य कार्यकर्ताओं ने भी राखी बंधवाई।

पूर्व विधायक अजय राय ने बताया कि आज हम लोग देश के महान सपूत विशाल पांडेय के परिवार में आये हैं और आज दो बहनों से हम लोगों ने राखी बंधवाई है और इनको ये कभी महसूस न हो कि इनका भाई नहीं है इसलिए आज हम लोगों ने राखी बंधवाई है। इन दोनों बहनों को हम लोग आजीवन यह वादा करते हैं कि रक्षा करेंगे।

शहीद के पिता विजय शंकर पांडेय ने कहा कि मेरा बेटा शहीद हुआ है उसकी कमी पूरा करना मुश्किल है पर आज पूर्व विधायक और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के यहाँ आने से यह एहसास हुआ कि हम अकेले नहीं है और आज भी मेरा विशाल ज़िंदा है। यह कहकर उनकी आंखें डबडबा गयी। वहीं विशाल की बहन वैष्णवी ने बताया कि भैया का सपना था कि मै एयरफोर्स ऑफिसर बनू तो मै उसकी तैयारी में लगी हुई हूँ।

घर बंद कर भाई के दसवें में गयी थी बहन, 10 लाख से अधिक की हुई चोरी, पुलिस कर रही जांच

Lakhs of rupees worth of goods stolen in Adampur police station area, police investigating

वाराणसी। शहर के आदमपुर थानाक्षेत्र के कोनिया सट्टी निवासी छोटेलाल सोनकर के घर में चोरों ने लाखों के आभूषण सहित 1 लाख 75 हज़ार नगद पर हांथ साफ़ कर दिया। छोटेलाल सोनकर रविवार को अपने साले के दसवें में शामिल होने गए थे। पत्नी पहले से वहां मौजूद थी। सुबह ग्फ्हर पहुंचे तो मकान का ताला टूटा हुआ था। भुक्तभोगी घर में ही जनरल स्टोर चलाता है। फिलहाल घटना की सूचना पर काफी देर बाद पहुंची आदमपुर पुलिस घटना की जांच कर रही है। भुक्तभोगी वार्ड नंबर 8 के भाजपा पार्षद विजय सोनकर के चचेरे भाई हैं।

इस सम्बन्ध में छोटेलाल सोनकर की पत्नी प्रभा सोनकर ने बताया कि मेरे भाई राजू का दसवां था मेरे सिगरा स्थित मकान पर। हम अपने भाई की मौत के बाद से वहीँ थे कल दसवां था उसका तो हमरे पति भी शाम में सिगरा चले आये थे। आज हम लोग वापस सुबह आये तो देखा मकान का ताला टूटा हुआ था, जब घर के अंदर गये तो देखा कमरे और जनरल स्टोर व चाय पान दुकान के दरवाजे का डणहरा को किसी राड को डाल कर चाडने के बाद दरवाजे को खोला और आराम से घर में चोरी की।

प्रभा ने बताया कि चोरों ने कमरे में दो गोदरेज की अलमारी का ताला तोड़ने के बाद लाकर मे रखे चांदी के 5 जोडा पायजेब ,40 जोड़ा हाथ कड़ा बचकानी ,1 करधनी, 3 हाफ करधनी 3 जोड़ा पायल बचकानी, 8 करधनी बचकानी, 2 जोड़ा पैर का छड़ा बचकानी, 1 जोड़ा हाथ का पंजा, 2 जोड़ा झुमका सोने का, 2 जोड़ टप्स सोने का, 2 लौग सोने का, 1 नथ सोने का, 1 हार सोनेका, 2 चेन सोने का, 5अंगूठी सोने का, 1 लॉकेट सोने का, 2 मंगलसूत्र सोने का, 2 सिकडी बचकानी सोने का, 7 कलाई घड़ी को चोरों ने चुरा लिया है।

छोटेलाल सोनकर की सूचना पर काफी देर में पुलिस पहुंची। पुलिस को छोटेलाल ने बताया कि बहनोई की मौत के बाद भांजी की सारी ज़िम्मेदारी मेरी थी और उसी के लिए सामान इकट्ठा कर रहे थे। फिलहाल पुलिस भुक्तभोगी से पूछताछ कर जांच में लग गयी है।