पोलियो अभियान की तर्ज पर फ्रंट लाइन वर्कर द्वारा वाराणसी में किया गया घर-घर संपर्क

वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि विशेष सर्विलान्स अभियान, पोलियो अभियान की तर्ज पर विगत 5 जुलाई से 15 जुलाई तक चलाया गया। अभियान में फ्रंट लाइन वर्कर द्वारा घर-घर जाकर संपर्क कर सर्वे का कार्य किया गया और इस दौरान बुखार, खांसी और सांस लेने में दिक्कत वाले मरीजों के साथ ही साथ पहले से इलाज करा रहे लंबी बीमारियों जैसे गुर्दे का रोग, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, कैंसर इत्यादि से ग्रसित मरीजों की पहचान की गयी।

जिलाधिकारी ने सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को निर्देशित करते हुये कहा कि अभियान के दौरान पहचान किए गए सभी मरीजों को तात्कालिक प्रभाव से स्वास्थ्य केन्द्रों और अस्पताल के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई जाएं।

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ वीबी सिंह ने इस सम्बन्ध में बताया कि 5 से 15 जुलाई तक चलाये गए सर्वेक्षण अभियान के तहत शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बुखार, खांसी और सांस लेने में दिक्कत वाले कुल 6,261 मरीज खोजे गए जिसमें बुखार के 2,273, खाँसी के 2,121, और सांस लेने में दिक्कत के 1,876 मरीज चिन्हित किए गए। वहीं लंबी बीमारीयों यथा मधुमेह के 25,840, उच्च रक्तचाप के 14,186, कैंसर रोग के 735, हृदय रोग के 2,714 और गुर्दे का रोग के 450 रोगी खोजे गए। शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के लिए गठित की गई 11,425 टीमों ने सर्वेक्षण अभियान का कार्य किया।

उन्होंने बताया कि 7.20 लाख (7,20,796) घरों का सर्वेक्षण किया गया जिसमें लगभग 37.45 लाख (37,45,591) व्यक्तियों का सर्वे किया गया। अभियान के दौरान 854 ऐसे लक्षणयुक्त व्यक्ति चिन्हित किए गए जो विगत 14 दिनों से किसी कोविड पॉज़िटिव व्यक्ति के संपर्क में आए थे। अभियान के दौरान संपादित की गयी सेनिटाइजेशन गतिविधियों की संख्या 117 और सैनिटाइज़ किए गए आवासीय भवनों/परिसरों/ऑफिस की संख्या 226 रही।

मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि अभियान के तहत 10 दिनों में कुल 50,186 मरीज खोजे गए।