वाराणसी : कोरोना काल के चलते बेनियाबाग मैदान में इस बार नहीं लगेगी बकरा मंडी

File Photo

वाराणसी। कोरोना काल में सभी त्योहारों पर डर का साया मंडरा रहा है। जनपद में बढ़ते कोरोना के मरीजों को देखते हुए जिला प्रशासन और राज्य सरकार भी काफी चिंतित है। यही वजह है कि धार्मिक त्योहारों पर भी नियमों और निर्देशों की सख्ती साफ देखी जा सकती है और कोरोना संक्रमण के चलते सभी त्योहार साधारण और फीके से बीत रहे हैं।

इन सख्तियों का जीता जागता उदाहरण काशी के बेनिया बाग के मैदान में दिखाई दे रहा है, जहां मुस्लिम बंधुओं के पाक पर्व बकरीद के मौके पर यूपी के अलग-अलग जिलों से लोग बकरी की खरीद बिकरी करने के लिए आते थें, वही इस ग्राउंड में खुदरा बकरों की मंडी लगा करती थी। कई राज्यों से व्यापारी यहां अपने बकरे को त्योहार के मौके पर बेचने आया करते थें, लेकिन कोरोना संक्रमण ने सैकड़ों साल की परंपरा को विराम लगा दिया है।

इस संबंध में नेशनल फुटबॉल खिलाड़ी एवं बनारस स्पोर्टिंग क्लब के कोच और बकर मंडी का मैनेजमेंट देखने वाले राना अनवर ने बताया कि सरकार के निर्देश के बाद बेनियाबाद पर हर साल बड़े पैमाने पर लगने वाली बकरा मंडी इस बार यहां नहीं लगाई जाएगी। यह पूरे पूर्वांचल में लगने वाली सबसे बड़ी मंडियों में से एक है। हर साल यहां मैनपुरी, इटावा, फेतहपुर, राजस्थान, एटा, बिहार, रसड़ा आदि जगाहों से व्यापारी बकरा बेचने के लिए आते हैं, पर कोरोना काल को देखते हुए इस साल यहां मंडी नहीं लगाई जाएगी।

राना अनवर ने बताया कि इस बार मंडी ने लगने के कारण व्य़ापारियों ने बकरा बेचने और खरीदने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म का सहारा ले लिया है। ऑनलाइन बकरों की कीमत बताई जा रही है और घर पर होम डिलीवरी दी जा रही है। इस बार से व्यापारी ऑनलाइन ही बकरे बेच कर मुनाफा कमा रहे हैं।