भले ही श्री लालजी टंडन हमारे बीच नहीं रहें पर उनके सुविचार हमारी स्मृतियों में सदैव जीवित रहेंगे – मंत्री रविंद्र जायसवाल

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के स्टांप एवं न्यायालय पंजीयन शुल्क राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रविंद्र जायसवाल ने मध्य प्रदेश के राज्यपाल श्री लालजी टंडन के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि आज सुबह पूज्य लालजी टंडन के गोलोकवासी होने की सूचना मिली, श्रद्धेय टंडन जी का जाना मेरी व्यक्तिगत क्षति है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का एक स्तंभ ढह गया, सदैव उनसे मुझे पितृतुल्य स्नेह मिला। जब भी कभी मार्गदर्शन की आवश्यकता होती थी, मैं उनका मार्गदर्शन लेता था। उनकी कमी को अब पूरा नहीं किया जा सकता।

टंडनजी ने हमें सदैव सन्मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया। राष्ट्र के प्रति उनके प्रेम और प्रगति के लिए योगदान को चिरकाल तक याद रखा जाएगा, वे आज हमारे बीच नहीं हैं पर अपने सुविचारों द्वारा वे हमारी स्मृतियों में सदैव जीवित रहेंगे।