कोरोना के चलते इस बार नहीं होगा लमही महोत्सव, औपचारिकता के साथ मनेगी मुंशी प्रेमचंद की 140वीं जयंती

वाराणसी। आधुनिक भारत के शीर्षस्थ साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद की 140वीं जयंती 31 जुलाई को है, पर कोरोना महामारी संकट के चलते इस बार मुंशी प्रमचंद की जयंती औपचारिकता में ही सिमट कर रह जाएगी। हर साल मंशी प्रेम चंद की जयंती पर उनके पैतृक गांव लमही में दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता था पर इस बार कोरोना संक्रमण के चलते कार्यक्रम को स्थगित कर दिया गया है।

मुंशी प्रेमचंद की जयंती के मौके पर हर साल प्रशासनिक स्तर से दो दिवसीय लमही महोत्सव का आयोजन किया जाता है, जिसमें विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम, बच्चों की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती थी। इसके साथ ही मुंशी प्रेमचंद के कहानियों के नाटक का मंचन भी किया जाता था, लेकिन इस बार सब सूना सूना नजर आ रहा है। गांव के लोग भी कोरोना के चलते स्थगित हुए कार्यक्रम के कारण दुखी हैं।

वहीं प्रेमचंद स्मारक न्यास के अध्यक्ष सुरेश चंद दुबे ने Live VNS से बातचीत में बताया कि इस बार उपन्यास सम्राट के जयंती के मौके पर वह मेला नजर नहीं आएगा जो हर वर्ष लोग देखते आए हैं। केवल औपचारिकता पूरी की जाएगी। उन्होंने बताया कि इस बार जयंती के मौके पर सिर्फ औपचारिकता के दौर पर आलाधिकारी यहां आएंगे और परंपराओं का निर्वहन करेंगे। कोरोना के चलते पहले जैसी रौनक इस बार यहां नहीं रहेगी।

देखें वीडियो