लंबे समय से सुधारों की राह देख रहे शिक्षा क्षेत्र को गति देने की ओर कदम है नयी शिक्षा नीति- प्रो. राकेश भट्नागर

वाराणसी। केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने नई शिक्षा नीति 2020 को अपनी मंज़ूरी दे दी है, इस पर काशी हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राकेश भट्नागर ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि लंबे समय से सुधारों की राह देख रहे शिक्षा क्षेत्र को तेज़ी देने की दिशा में ये एक ऐतिहासिक कदम है।

उन्होंने कहा कि न्यू-इंडिया के सपने को साकार करने की तरफ में नई शिक्षा नीति देश को ज्ञान आधारित महाशक्ति बनाने का मार्ग प्रशस्त करेगी। शिक्षा के सार्वभौमिकरण व अंतर्विषयक शिक्षा को बढ़ावा देने जैसे क़दमों से न सिर्फ छात्रों को भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार किया जा सकेगा, बल्कि लगातार बदल रहे विश्व की आवश्यकताओं के अनुरूप उत्तम मानव संसाधन तैयार करने व ज़िम्मेदार नागरिकों के निर्माण में भी मदद मिलेगी।

राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन स्थापित करने से न केवल देश में अनुसंधान संबंधी ढांचे को मज़बूती मिलेगी बल्कि उच्च शिक्षा के संस्थानों में अनुसंधान की संस्कृति को भी बढ़ावा मिलेगा, जो समय की मांग है।

उन्होंने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण ये है कि नई शिक्षा नीति छात्रों का सर्वांगीण विकास सुनिश्चित करने के लक्ष्य को प्रतिबिंबित करती है, ऐसे छात्र जो शिक्षा को जीवन को बेहतर बनाने व समस्याओं का निवारण करने का माध्यम बनाएंगे।