इस वर्ष भाइयों की कलाई पर सजेगी स्मार्ट राखी, बहन के संकट में पड़ने पर भाई को करेगी आगाह

वाराणसी। भाई बहन के प्रेम और स्नेह का पार्व रक्षा बंधन नजदीक ही है। इस बार पीएम मोदी के आत्मनिर्भर भारत के आह्वान पर जहां देश में स्वदेशी को अपनाने और चिनी सामानों के बहिष्कार के लिए जोरो से कार्य किया जा रहा है। वहीं पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी मेक इन इण्डिया के तहत काशी की होनहार बेटी ने इस रक्षा बंधन एक ऐसी स्मार्ट राखी तैयार की है, जो मुसीबत पड़ने पर एक सिग्नल से भाइयों तक मैसेज पहुंचा सकता है।

चाइनीज प्रोडक्ट को बायकाट करने के लिए अशोका इस्टीट्यटू की पूर्व इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग की छात्रा अंजली श्रीवास्तव ने स्मार्ट राखी बनाया है। Live VNS से विशेष बातचीत में अंजली ने बताया कि जैसा की हम सब जानते है रक्क्षा बंधन के त्यौहार पर एक भाई अपनी बहन को ज़िन्दगी भर रक्षा का वादा करता बस उसी रिश्ते को और मजबूत करने के लिए मैंने थोड़ी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया हैl

उन्होंने बताया कि मेरी ये स्मार्ट राखी पूरी तरह से (वायरलेस कम्यूनिकेशन पर आधारित हैl इस स्मार्ट राखी की मदद बहन खुद पर आने वाली मुसीबत या अकेला होने पर ईव टीजिंग जैसा खतरा पड़ने पर अपने भाई को एक वाइब्रेट सिग्नल के जरिये मैसेज दे सकेंगीl इस वायरलेस स्मार्ट राखी में 2 पार्ट्स होते है पहला राखी के रूप में होता है जिसे बहने अपने भाई के कलाई पे बांधती है और दूसरा पार्ट जो की एक ब्रेसलेट अंगूठी के रूप में होता है और इसमें एक बहुत छोटा इमरजेंसी बटन लगा होता है, जिसे बहने अपने हाथ में या उंगली में पहन सकती है और मुसीबत पड़ने पर ब्रेसलेट अंगूठी में लगे बटन को दबाते ही भाई के कलाई में बंधे राखी पे अलार्म के साथ वाइब्रेशन होने लगता हैl

अंजली ने बताया कि इस स्मार्ट राखी को एक बार चार्ज करने पर 3 महीने तक चार्ज करने की जरूरत नहीं पडती और यह अनलिमिटेड फ्रिक्वेंसी वाला स्मार्ट राखी है जो कितनी भी दूर से पैनिक मैसेज भेज सकता है। इसे बनाने में 250 रुपये का खर्च आया है l इसे बनाने में, led लाइट, बटन सेल, अलार्म, वाब्रेशन मोटर, राखी का इस्तेमाल किया गया है जो पुरी तरह स्वेदेशी है। उन्होंने बताया कि उनके इस राखी की डिमांड भा आने शुरु हो गई है, उनका पहला ऑर्डर महाराष्ट्र से आया।

अंजली ने बताया उन्होंने ऐसा ही एक स्मार्ट राखी छोटे भाइयों के लिए भी बनाया है। मतलब ऐसे भाई जो 2 या 3 साल के हैं और कभी कभी खेलते हुए घर के बाहर भई निकल जाते हैं तो उनके लिए एक अलार्म बेज्ड राखी है जो छोटे भाइयों के घर से दूर जाते ही एक अलार्म सिग्नल देती है जिससे घर में सबको पता चल जाएगा कि बच्चा खेलते खेलते घर से बाहर निकल गया है। बता दें कि अंजली ने पहले भी कई चीजों का आविष्कार किया है जिसमें एंटी रेप जिनस, शौकिंग ग्लब्स, डोमेस्टिक वॉलेंस पैनिक अलार्म जैसे आविष्कार शामिल हैं।