28 C
Varanasi
Wednesday, April 1, 2020

कई प्रकार के रोगों में कारगर है तुलसी, जाने कैसे 

Must Read

अगर कब्ज की समस्या से है परेशान, तो जरूर खाये अंगूर 

अंगूर एक ऐसा फल है जिसे आप बड़े आसानी ने कही भी प्राप्त कर सकते है। मुख्यरूप से अंगूर...

कोरेना वायरस और बर्ड फ़्लू से बचाएगा ये साइबर पंक मास्क, काशी की चार छात्राओं ने किया है तैयार

वाराणसी। शहर में बर्ड फ़्लू की दस्तक के बाद हर कोई सहमा हुआ है। उधर कोरोना वायरस से भी...

कोरोना वायरस : जाने किस तरह के हैंड सेनिटाइजर कोरोना से बचने में है कारगर

पूरे विश्व में इस वक्त नोवेल कोरोना वायरस का कहर देखने को मिल रहा है। भारत में भी इसे...
तुलसी सिर्फ घर की शोभा बढ़ाने वाला पौधा ही नहीं है बल्कि ये औषधीय गुणों से भरपूर पौधा है। हिंदू धर्म में तुलसी की भगवान की तरह भी पूजा की जाती है। आज के दौर में जितनी तेजी से बीमारियां बढ़ रही है उसमें लोगों को ऐलोपैथी की तरफ झुकाव होना लाजमी है। लेकिन तुलसी ऐसी औषधी है जो कई गंभीर बीमारियों से ​छुटकारा दिला सकती है। तुलसी में कई औषधीय गुण होते हैं। हृदय रोग हो या सर्दी जुकाम, भारत में सदियों से तुलसी का इस्तेमाल होता चला आ रहा है। आइए जानते हैं किन बीमारियों के लिए वरदान है तुलसी।
सांसों की दुर्गंध
अनियमित और दूषित खानपान के चलते आजकल लोगों में सांसों की दुर्गंध का रोग बहुत पाया जाता है। इससे छुटकारा पाने के लिए कई लोग हजारों रुपये खर्च कर देते हैं लेकिन कोई फायदा नहीं होता है। ऐसे में अगर तुलसी का प्रयोग किया जाए बहुत फायदा मिल सकता है।  तुलसी की सूखी पत्तियों को सरसों के तेल में मिलाकर दांत साफ करने से सांसों की दुर्गध चली जाती है। इसके अलावा तुलसी की पत्तियां चबाने से भी सांसों की दुर्गंध और पायरिया जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
गले की खराश
वैसे तो गले की खराश सर्दियों में ठंड की वजह से होती है। लेकिन कई लोगों को यह समस्या गर्मियों में हो जाती है। अगर आप भी कुछ इसी तरह के रोग से जूझ रहे हैं तो चाय की पत्तियों को उबालकर पीएं। गले की खराश दूर हो जाएगी। बच्चों में गले की खराश जैसी समस्याएं गर्मियों में भी हो जाती हैं। उन्हें तुलसी की पत्त्यिों का काढ़ा बनाकर ​पिलाएं। काफी आराम मिलेगा।
श्वास संबंधी समस्याओं का उपचार करने में तुलसी खासी उपयोगी साबित होती है। शहद, अदरक और तुलसी को मिलाकर बनाया गया काढ़ा पीने से ब्रोंकाइटिस, दमा, कफ और सर्दी में राहत मिलती है। नमक, लौंग और तुलसी के पत्तों से बनाया गया काढ़ा इंफ्लुएंजा (एक तरह का बुखार) में फौरन राहत देता है।
हृदय रोग
तुलसी खून में कोलेस्ट्राल के स्तर को घटाती है। ऐसे में हृदय रोगियों के लिए यह खासी कारगर साबित होती है। ​हालांकि जिन लोगों को दिल से जुड़ी कोई बीमारी नहीं है उन्हें भी तुलसी का नियमित सेवन करना चाहिए।
तनाव
तुलसी की पत्तियों में तनाव रोधीगुण भी पाए जाते हैं। हाल में हुए शोधों से पता चला है कि तुलसी तनाव से बचाती है। तनाव को खुद से दूर रखने के लिए कोई भी व्यक्ति तुलसी के 12 पत्तों का रोज दो बार सेवन कर सकता है।
संक्रमण और त्वचा रोग
संक्रमण रोगों के लिए तुलसी का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद है। रोजाना तुलसी की कुछ पत्तियों को चबाने से संक्रमण का सफाया होता है। दाद, खुजली और त्वचा की अन्य समस्याओं में तुलसी के अर्क को प्रभावित जगह पर लगाने से कुछ ही दिनों में रोग दूर हो जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

बड़े दि‍लवाले नि‍कले बनारसी, ‘पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक’ में दिल खोलकर जमा की राहत सामग्री

वाराणसी। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन जारी है। जिसके बाद जिला प्रशासन...

लॉकडाउन में कारगर साबित हो रही मेडिसिन एट डोर योजना, दो दिन में 500 लोगों को मिला लाभ

वाराणसी। लॉकडाउन के अनुपालन के क्रम में कोई भी व्यक्ति बेवजह घर से बाहर ना आये और जो घर मे हैं उन्हें कैसे ज़रूरी...

युवाओं की टोली कर रही लॉक डाउन में भोजन का इंतज़ाम, पुलिस से लेकर पब्लिक तक सबको मिल रहा है दो वक्त का भोजन

वाराणसी। शहर में लॉकडाउन के बाद कई समाजसेवी संस्थाओं के साथ ही साथ जगह जगह यूवाओं की टोली भी पब्लिक और पुलिस में भोजन...

वाराणसी के कोरोना पॉजिटिव मरीज की पांच माह की बच्ची सहित परिवार के पांच सदस्‍यों का लिया गया सैंपल

वाराणसी। फूलपुर थाना क्षेत्र के गांव में 30 वर्षीय युवक के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद से पूरे शहर में हड़कंप फैल गया है।...

कोरोना अपडेट : तीन दि‍न तक वाराणसी में चलेगा विशेष सफाई अभियान, घरों में ही रहे जनता

वाराणसी। कोरोना वायरस के संक्रमण एवं उससे बचाव के लिए प्रदेश शासन द्वारा वाराणसी जनपद को लॉकडाउन कराने के बाद भी सोमवार को पंचकोशी...

More Articles Like This