28 C
Varanasi
Wednesday, April 1, 2020

आज है विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस, जाने उपभोक्ताओं के अधिकार, कब पहली बार मनाया गया यह महत्वपूर्ण दिवस

Must Read

सेहत के लिए वरदान है कड़वा करेला, जाने इसकी खूबियां 

करेले का नाम सुनते ही हमारे मन में कड़वेपन का एहसास होता है इसीलिए कई लोग इसे खाना पंसद...

सौंदर्य बढ़ाने में कारगर है नींबू , जाने कैसे 

नींबू का इस्तेमाल अलग अलग तरह से हर घर में ही किया जाता है कभी शरबत के रूप में,...

घर बैठे चाहि‍ए दमकती त्‍वचा, आजमाइये ये घरेलू नुस्‍खे

क्‍या आपकी त्‍वचा बेजान और मुरझायी-मुरझायी सी रहती है। चेहरे पर चमक नहीं दिखती। तमाम जतन करने के बाद...

उपभोक्ताओं के अधिकारों की सुरक्षा के लिए हर वर्ष दुनिया भर में 15 मार्च को विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस मनाया जाता है। विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस पहली बार 15 मार्च 1983 को मनाया गया था। धीरे-धीरे दूनिया भर के उपभोक्ताओं के लिए यह एक महत्वपूर्ण दिवस का रुप ले लिया। इस दिवस का उद्देश्य उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरुक करना है। इस बार विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस का थीम ‘द सस्टेनेबल कन्ज्यूमर’ है।

दरअसल 15 मार्च 1962 को अमेरिकी कांग्रेस में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी ने उपभोक्ता अधिकारों को लेकर शानदार भाषण दिया था। इस ऐतिहासिक भाषण के दो दशक के लंबे और कठिन पैरवी के बाद 1983 से पहली बार प्रत्येक वर्ष 15 मार्च को विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस मनाया जाता है।

हर साल 15 मार्च को दुनिया भर के उपभोक्ता समूहों द्वारा विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस मनाया जाता है। उपभोक्ता अधिकारों के लिए एक ख़ास दिन बनाने के पीछे दरअसल मकसद यह है कि एक ऐसे विश्व का निर्माण किया जाए जिसमें हर कोई आसानी से अपनी जरूरतों की चीजें और सर्विसेज हासिल कर सके।

विश्व उपभोक्ता दिवस 2020 के लिए थीम ‘द सस्टेनेबल कन्ज्यूमर’ है, यह अभियान वैश्विक स्तर पर टिकाऊ खपत की आवश्यकता पर चर्चा करेगा, साथ ही उपभोक्ता अधिकारों और संरक्षण की महत्वपूर्ण भूमिका को भी उजागर कर सकता है।

इसके लिए, भारत सरकार ने उपभोक्ताओं के अधिकारों की रक्षा के लिए कई पहल भी की हैं, जो उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 में हैं, जो भारतीय उपभोक्ताओं को कुछ मूल अधिकार प्रदान करता है। हालांकि, जागरूकता की कमी इन अधिकारों से होने वाले लाभों के रास्ते में एक बड़ी चुनौती बनी हुई है।

इस विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस पर भारत में एक उपभोक्ता के रूप में आपके पास कुछ अधिकार हैं-

उपभोक्ता अधिकारों का मतलब है कि प्रत्येक उपभोक्ता को माल या सेवाओं की गुणवत्ता, सामर्थ्य, मात्रा, शुद्धता, कीमत और मानक के बारे में जानकारी रखने का अधिकार है। इसलिए यह आवश्यक हो जाता है कि लोग अपने अधिकारों के बारे में जागरूक हों, जिनमें मोटे तौर पर शामिल हैं।

सभी प्रकार के खतरनाक सामानों और सेवाओं से सुरक्षा का अधिकार।

सभी वस्तुओं और सेवाओं के प्रदर्शन और गुणवत्ता के बारे में पूरी तरह से सूचित करने का अधिकार।

माल और सेवाओं के मुक्त चयन का अधिकार।

उपभोक्ता हितों से संबंधित सभी निर्णय लेने की प्रक्रियाओं में सुनवाई का अधिकार।

जब भी उपभोक्ता अधिकारों का उल्लंघन किया गया है, उसका निवारण करने का अधिकार है।

उपभोक्ता शिक्षा को पूरा करने का अधिकार।

दुकानदारों से पक्के बिल की मांग का अधिकार।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

बड़े दि‍लवाले नि‍कले बनारसी, ‘पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक’ में दिल खोलकर जमा की राहत सामग्री

वाराणसी। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन जारी है। जिसके बाद जिला प्रशासन...

लॉकडाउन में कारगर साबित हो रही मेडिसिन एट डोर योजना, दो दिन में 500 लोगों को मिला लाभ

वाराणसी। लॉकडाउन के अनुपालन के क्रम में कोई भी व्यक्ति बेवजह घर से बाहर ना आये और जो घर मे हैं उन्हें कैसे ज़रूरी...

युवाओं की टोली कर रही लॉक डाउन में भोजन का इंतज़ाम, पुलिस से लेकर पब्लिक तक सबको मिल रहा है दो वक्त का भोजन

वाराणसी। शहर में लॉकडाउन के बाद कई समाजसेवी संस्थाओं के साथ ही साथ जगह जगह यूवाओं की टोली भी पब्लिक और पुलिस में भोजन...

वाराणसी के कोरोना पॉजिटिव मरीज की पांच माह की बच्ची सहित परिवार के पांच सदस्‍यों का लिया गया सैंपल

वाराणसी। फूलपुर थाना क्षेत्र के गांव में 30 वर्षीय युवक के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद से पूरे शहर में हड़कंप फैल गया है।...

कोरोना अपडेट : तीन दि‍न तक वाराणसी में चलेगा विशेष सफाई अभियान, घरों में ही रहे जनता

वाराणसी। कोरोना वायरस के संक्रमण एवं उससे बचाव के लिए प्रदेश शासन द्वारा वाराणसी जनपद को लॉकडाउन कराने के बाद भी सोमवार को पंचकोशी...

More Articles Like This